Mere Sexy Chacha Sasur

Mere Pyare CHACHA Sasur

मेरे सेक्सी चाचा ससुर Aaj main apane jeevan kee rishte mein seks kee sachchee kahaanee likh rahee hoon | mere sasur ne meree kee chudaee kaise kee aaj main ye aap logo ko bataana chaahatee hoon | aasha hai ki aap sabhee ko pasand aaegee. main rekha hoon aur bhopaal mein rahatee hoon. meree umr 34 saal kee hai. mere pati ek kampanee mein sels mainejar hain. mera ek 14 saal ka beta hai | jo ki deharaadoon mein hostil mein rahakar padhaee karata hai. bhopaal mein main aur mere pati hee rahate hain. aaj main apane jeevan kee sachchee kahaanee likh rahee hoon aasha hai ki aap sabhee ko pasand aaegee. mere pati ko kampanee ke kaam se ek maheene ke lie letin dubee jaana tha | Woh mujhe akela nahin chhodana chaahate the isalie unhonne unake CHACHA ko mere paas rahane ko bula liya. phir mere pati toor par chale gae. ab ghar mein main aur CHACHA sasur hee rah gae. unakee aayu 60 kee hai aur unakee beevee 5 saal pahale gujar gaee chukee hain. ve gaanv mein rahakar khetee sambhaalate hain Mere Pyare CHACHA Sasur.

mere saas sasur mere devar ke saath dubee mein rahate hain isalie Woh mere saath nahin aa sakate the. mere CHACHA sasur ka ek beta hai. Woh pune mein rahata hai par usakee beevee mere CHACHA sasur se baat bhee nahin karatee. Woh akele the iseelie mere paas rahane aane ko jaldee hee maan gae. CHACHA ka kad 6 phut hai aur Woh dikhane mein bahut hee achchhe lagate hain. mere pati jab mere paas hote hain mujhe jamakar chodate hain par ab Woh nahin the. main hamesha ghar mein naitee hee pahanatee hoon | par CHACHAajee ke saamane kaise pahanoon ye mere lie dikkat kee baat thee. ek din kee baat hai main CHACHA jee ke kamare mein kisee ke kaam se gaee | tab Woh aankh band karake apane LUND kee maalish kar rahe the. unako pata nahin tha ki main dekh rahee hoon. Woh bas aankhen band karake LUND kee maalish kie ja rahe the aur kuchh badabada bhee rahe the. main vahaan se bhaag aaee par usase kya hota hai CHACHA jee ka mota LUND dekh kar meree choot to bahane lagee thee. unaka itana mast kaala aur lamba LUND mainne pahalee baar dekha tha. mujhe paseena aane laga tha. ab to bas mujhe sirf unaka LUND dikhaee de raha tha par rishta kuchh naajuk tha iseelie aisa vaisa kuchh soch bhee nahin sakatee thee. is baat ko 3 din ho gae. ab main thodee normal ho gaee thee.

ek raat mein so rahee thee tab mujhe kuchh mahasoos hua. kisee ka haath mere chooche daba rahe the. main samajh gaee ki ye CHACHA jee hee hain. mainne bhee unake LUND ko yaad kiya aur sone ka naatak karatee rahee. kuchh der baad Woh mere pairon ko choomane lage aur meree naitee bhee unhonne oopar tak utha dee aur meree choot ko sahalaane lage. ab mere se kantrol nahin ho pa raha tha. mainne apni donon taangen khol deen. CHACHA jee samajh gae ki meree choot chudana chaah rahee hai. CHACHA jee bekhauf ho kar mere oopar chadh gae aur unhonne mere kaan mein kaha bahoo jaag jao khul kar maja lo. mainne kuchh jabaav nahin diya to aur Woh bole rekha mujhe pata hai tum jaag rahee ho aur maja le rahee ho. tab mainne bina aankhen khole hee riplai diya CHACHA jee | CHACHAajee bolo bahoo | mainne kaha kya kar rahe ho? CHACHAajee bole bas tujhe pyaar kar raha hoon. mainne kaha ye kaisa pyaar hai ? CHACHAajee tum 3 din pahale mujhe dekhakar kyon bhaagee theen ? mainne kaha kya? CHACHA jee ab bas bhee karo yaar aankhen kholo aur chudaee ka khul kar maja lo.

Woh khade ho gae aur battee jala dee. Woh sirf lungee mein hee the aur main naitee mein thee. phir unhonne lungee nikaal dee aur apana tannaaya hua LUND haath mein lekar hilaane lage. main unake LUND ko badee pyaasee najaron se dekh rahee thee. unhonne mere paas aakar LUND mere munh ke saamane kiya. CHACHA jee ne kaha rekha isako tumhaare munh ka test karao tum itanee khoobasoorat ho isalie mere se sambhalana mushkil ho jaata hai. CHACHA jee gaanv ke the unaka shareer ekadam phit tha. mainne unaka LUND munh mein le liya. mere munh mein LUND nahin aa raha tha par main itane mast LUND ko chhodana nahin chaahatee thee isalie main unake LUND ko jeebh se chaatane lagee. CHACHA jee ka LUND bada svaadisht laga to main unakee badee badee gotiyon ko bhee chaatate hue choos aur choom letee thee. do teen baar mainne CHACHA jee ke LUND par apane daant bhee gada die to CHACHAajee chilla pade oh aahh bahoo kya kar rahee ho too to mast choosatee ho aaj tak mainne gaanv mein bahut saaree chooten chodee hai par tere jaisa kisee ne nahin choosa aah maja aa raha hai mera sab kuchh tera hee hai le chaat le isako | mainne kaha kya CHACHAajee kya kaha aapane ? CHACHAajee ne kaha oh haan gaanv kee auraton mein mera LUND bahut phemas hai khud saamane se aakar choot chudavaakar chalee jaatee hain.

aaj tak mainne kisee ko chodane ko nahin kaha Woh sab khud aakar apana ghaaghara ooncha karake mere LUND se apni choot kee thukaee karavaatee hain. par aaj tak kabhee shahar vaalee choot ko nahin choda aaj tum mil gaee ah too to shahar vaalee hai na ye khvaahish bhee pooree ho gaee. mainne kaha haan CHACHAajee | main mastee se unaka LUND choos rahee thee. phir main itane joron se LUND choosane lagee ki unaka paanee nikal gaya aur unaka paanee main gatagat pee gaee. aaj tak mainne kabhee veery piya nahin tha par aaj piya to bahut hee testee laga. ab mere par chudaee savaar ho gaee thee. mainne unaka LUND jeebh se saaph kiya to LUND mein phir se jaan aa gaee. mainne puchha CHACHAajee kaisa laga? CHACHAajee ne kaha bahoo too bada maja detee hai bahu kee chudaee ka maja hee alag hai ab too jo bolegee main Woh karoonga aaj se main tera gulaam ho gaya. mainne kaha CHACHAajee | Woh joron se mere mammon ko dabaane lage main ummh ahah hay yaah karane lagee. Woh bade berahamee se mere mammon ko masal rahe the. phir unhonne mera lipalok kiya aur meree jeebh ko choosane lage. ek haath se mammon ko masal rahe the aur jeebh se choot ka daana sahala rahe the. mainne unako jor se pakad rakha tha. mainne kaha CHACHAajee mujhe aapaka LUND phir se choosana hai. CHACHAajee ne kaha main to tera gulaam hoon mujhe too bol aap nahin |

mainne kaha theek hai. CHACHAajee ne apana LUND mere munh mein daal diya. mujhe unaka habshee LUND choosane mein bada maja aa raha tha. mujhe unaka habshee LUND choosane mein bada maja aa raha tha. ham donon 69 mein aa gae Woh meree choot ko chaat rahe the aur main apni gaand utha utha kar choot chata rahee thee. ab CHACHAajee mere taangon beech mein aa gae aur kahane lage bahoo teree choot nahin hai ye garam bhattee hai teree jaisee lugaee aaj tak nahin dekhee aah saalee mast hai re too meree kutiya aaj to main teree choot ko kha jaoonga. mainne kaha chal kha ja saale mera paanee nikaal de haraamee ah. CHACHAajee bol rahe the haay meree randee. unhonne meree choot mein apni lambee jeebh daal dee aur jeebh se choot ko chodane lage. main aahah mar jaoongee mere CHACHA toone kya kar diya aaj mujhe apni bana le aur meree choot ka salaad bana de. le randee le saalee. mainne kaha CHACHA mere se ab raha nahin ja raha ab chod de. CHACHAajee ne kaha abhee nahin chodoonga pahale choot ko khaane de. main tere moosal se meree choot kha mere bhadave ah| CHACHAajee nahin kutiya abhee aur maja le le. Woh mujhe tadapa rahe the aur mujhase sahan nahin ho raha tha.

ab jaise bhee ho mujhe bas LUND chaahie tha. mainne unako ukasaane ke lie kaha lagata hai tumhaare LUND mein jaan nahin hai saale tera LUND kuchh kaam ka nahin hai chal hat saale bhadave. ab Woh thode gussa hue aur unhonne meree taangen kholate hue apane habshee LUND ko meree chhotee see choot ke aage tika diya phir bole le ab bhosadee kee mere moosal ko jhel. yah kahate hue unhonne ek thokar maaree par unaka LUND andar nahin ja pa raha tha itana mota jo tha. mainne kaha CHACHA lavade saale daal isako andar. unhonne thoda aage peechhe hote hue 3 4 dhakke lagae tab unake mote LUND ka aanvala sareekha supaara choot kee phaankon ko cheerata hua andar ko chala gaya. ab Woh mujhe chodate hue aur mere doodh masakate hue kahane lage bahoo bahut maja aa raha hai too saalee cheej badee mast hai.

mujhe haalaanki unake mote LUND se takaleeph ho rahee thee par main daanton ko bheenche hue unake LUND kee motaee ko apni choot mein jajb karane kee koshish kar rahee thee. kuchh hee der mein ras ke kaaran choot ne dard ko bhula diya aur main apni gaand uthaakar chudavaane lagee. kuchh der baad unaka poora LUND choot kee jad tak andar baahar hone laga aur dhamaakedaar dhakkon se meree choot ka baaja baj utha. isake baad unhonne phir mujhe ulta kiya aur meree gaand mein jeebh daal diya. main mastee mein aah karane lagee. unhonne apane LUND ko peechhe se choot mein pel diya aur joron se chodane lage. main chillae ja rahee thee. kuchh der chodane ke baad unhonne kaha main aane vaala hoon. ab main seedhee ho gaee aur Woh mujhe oopar se chodane lage. mera shareer bhee akadane laga tha. CHACHAajee ne kaha rekha bol beej kahaan daaloon ? mainne kaha CHACHAajee sab maal andar hee daal do jo hoga so dekha jaega. unhonne apane LUND ka paanee meree choot mein hee chhod diya aur mere oopar nidhaal ho gae. meree choot se unaka ras bahata raha.

baad mein unhonne mujhe god mein uthaaya aur baatharoom mein le gae. CHACHA ne meree choot ko saaph kiya. ab mujhe kuchh sharm aa rahee thee. mainne unako soree bola ki mujhase galatee ho gaee. tab unhonne kaha bahoo aisa mat soch mujhe ek aurat kee jaroorat thee aur tujhe ek mard kee vahee kiya hai ham donon ne. isamen kuchh galat nahin hai. main muskura kar CHACHA jee se lipat gaee. us raat unhonne meree gaand bhee maaree aur jab tak CHACHA jee hamaare ghar rahe, tab tak sasur mein mujhe yaanee apni bahu kee chudaee roj 3 4 baar kee. main unaka paanee pee jaatee thee. to doston ye thee hamaaree rishto kee chudaee. har kisee ke saath kabhee na kabhee aisa ho hee jaata hai kee rishto ko doosara naam dena padata hai.

ALSO READ:-

 

मेरे प्यारे चाचा ससुर

आज मैं अपने जीवन की रिश्ते में सेक्स की सच्ची कहानी लिख रही हूँ। मेरे ससुर ने मेरी की चुदाई कैसे की आज मैं ये आप लोगो को बताना चाहती हूँ। आशा है कि आप सभी को पसंद आएगी। मैं रेखा हूँ और भोपाल में रहती हूँ। मेरी उम्र 34 साल की है। मेरे पति एक कंपनी में सेल्स मैनेजर हैं। मेरा एक 14 साल का बेटा है। जो कि देहरादून में हॉस्टिल में रहकर पढ़ाई करता है। भोपाल में मैं और मेरे पति ही रहते हैं। आज मैं अपने जीवन की सच्ची कहानी लिख रही हूँ आशा है कि आप सभी को पसंद आएगी। मेरे पति को कंपनी के काम से एक महीने के लिए लेटिन दुबई जाना था। वो मुझे अकेला नहीं छोड़ना चाहते थे इसलिए उन्होंने उनके चाचा को मेरे पास रहने को बुला लिया। फिर मेरे पति टूर पर चले गए। अब घर में मैं और चाचा ससुर ही रह गए। उनकी आयु 60 की है और उनकी बीवी 5 साल पहले गुजर गई चुकी हैं। वे गाँव में रहकर खेती संभालते हैं।

मेरे सास ससुर मेरे देवर के साथ दुबई में रहते हैं इसलिए वो मेरे साथ नहीं आ सकते थे। मेरे चाचा ससुर का एक बेटा है। वो पुणे में रहता है पर उसकी बीवी मेरे चाचा ससुर से बात भी नहीं करती। वो अकेले थे इसीलिए मेरे पास रहने आने को जल्दी ही मान गए। चाचा का कद 6 फुट है और वो दिखने में बहुत ही अच्छे लगते हैं। मेरे पति जब मेरे पास होते हैं मुझे जमकर चोदते हैं पर अब वो नहीं थे। मैं हमेशा घर में नाइटी ही पहनती हूँ। पर चाचाजी के सामने कैसे पहनूं ये मेरे लिए दिक्कत की बात थी। एक दिन की बात है मैं चाचा जी के कमरे में किसी के काम से गई। तब वो आँख बंद करके अपने लंड की मालिश कर रहे थे। उनको पता नहीं था कि मैं देख रही हूँ। वो बस आँखें बंद करके लंड की मालिश किए जा रहे थे और कुछ बड़बड़ा भी रहे थे। मैं वहाँ से भाग आई पर उससे क्या होता है चाचा जी का मोटा लंड देख कर मेरी चूत तो बहने लगी थी। उनका इतना मस्त काला और लम्बा लंड मैंने पहली बार देखा था। मुझे पसीना आने लगा था। अब तो बस मुझे सिर्फ़ उनका लंड दिखाई दे रहा था पर रिश्ता कुछ नाजुक था इसीलिए ऐसा वैसा कुछ सोच भी नहीं सकती थी। इस बात को 3 दिन हो गए। अब मैं थोड़ी नॉर्मल हो गई थी।

एक रात में सो रही थी तब मुझे कुछ महसूस हुआ। किसी का हाथ मेरे चूचे दबा रहे थे। मैं समझ गई कि ये चाचा जी ही हैं। मैंने भी उनके लंड को याद किया और सोने का नाटक करती रही। कुछ देर बाद वो मेरे पैरों को चूमने लगे और मेरी नाइटी भी उन्होंने ऊपर तक उठा दी और मेरी चूत को सहलाने लगे। अब मेरे से कंट्रोल नहीं हो पा रहा था। मैंने अपनी दोनों टांगें खोल दीं। चाचा जी समझ गए कि मेरी चूत चुदना चाह रही है। चाचा जी बेख़ौफ़ हो कर मेरे ऊपर चढ़ गए और उन्होंने मेरे कान में कहा बहू जाग जाओ खुल कर मजा लो। मैंने कुछ जबाव नहीं दिया तो और वो बोले रेखा मुझे पता है तुम जाग रही हो और मजा ले रही हो। तब मैंने बिना आँखें खोले ही रिप्लाइ दिया चाचा जी। चाचाजी बोलो बहू। मैंने कहा क्या कर रहे हो? चाचाजी बोले बस तुझे प्यार कर रहा हूँ। मैंने कहा ये कैसा प्यार है ? चाचाजी तुम 3 दिन पहले मुझे देखकर क्यों भागी थीं ? मैंने कहा क्या? चाचा जी अब बस भी करो यार आँखें खोलो और चुदाई का खुल कर मजा लो।
वो खड़े हो गए और बत्ती जला दी। वो सिर्फ़ लुंगी में ही थे और मैं नाइटी में थी। फिर उन्होंने लुंगी निकाल दी और अपना तन्नाया हुआ लंड हाथ में लेकर हिलाने लगे। मैं उनके लंड को बड़ी प्यासी नजरों से देख रही थी। उन्होंने मेरे पास आकर लंड मेरे मुँह के सामने किया। चाचा जी ने कहा रेखा इसको तुम्हारे मुँह का टेस्ट कराओ तुम इतनी खूबसूरत हो इसलिए मेरे से संभलना मुश्किल हो जाता है। चाचा जी गाँव के थे उनका शरीर एकदम फिट था। मैंने उनका लंड मुँह में ले लिया। मेरे मुँह में लंड नहीं आ रहा था पर मैं इतने मस्त लंड को छोड़ना नहीं चाहती थी इसलिए मैं उनके लंड को जीभ से चाटने लगी। चाचा जी का लंड बड़ा स्वादिष्ट लगा तो मैं उनकी बड़ी बड़ी गोटियों को भी चाटते हुए चूस और चूम लेती थी। दो तीन बार मैंने चाचा जी के लंड पर अपने दाँत भी गड़ा दिए तो चाचाजी चिल्ला पड़े ओह आह्ह बहू क्या कर रही हो तू तो मस्त चूसती हो आज तक मैंने गाँव में बहुत सारी चूतें चोदी है पर तेरे जैसा किसी ने नहीं चूसा आह मजा आ रहा है मेरा सब कुछ तेरा ही है ले चाट ले इसको। मैंने कहा क्या चाचाजी क्या कहा आपने ? चाचाजी ने कहा ओह हाँ गाँव की औरतों में मेरा लंड बहुत फेमस है खुद सामने से आकर चूत चुदवाकर चली जाती हैं।

आज तक मैंने किसी को चोदने को नहीं कहा वो सब खुद आकर अपना घाघरा ऊँचा करके मेरे लंड से अपनी चूत की ठुकाई करवाती हैं। पर आज तक कभी शहर वाली चूत को नहीं चोदा आज तुम मिल गई अह तू तो शहर वाली है ना ये ख्वाहिश भी पूरी हो गई। मैंने कहा हाँ चाचाजी। मैं मस्ती से उनका लंड चूस रही थी। फिर मैं इतने जोरों से लंड चूसने लगी कि उनका पानी निकल गया और उनका पानी मैं गटगट पी गई। आज तक मैंने कभी वीर्य पिया नहीं था पर आज पिया तो बहुत ही टेस्टी लगा। अब मेरे पर चुदाई सवार हो गई थी। मैंने उनका लंड जीभ से साफ किया तो लंड में फिर से जान आ गई। मैंने पुछा चाचाजी कैसा लगा ? चाचाजी ने कहा बहू तू बड़ा मजा देती है बहु की चुदाई का मजा ही अलग है अब तू जो बोलेगी मैं वो करूँगा आज से मैं तेरा गुलाम हो गया। मैंने कहा चाचाजी। वो जोरों से मेरे मम्मों को दबाने लगे मैं उम्म्ह अहह हय याह करने लगी। वो बड़े बेरहमी से मेरे मम्मों को मसल रहे थे। फिर उन्होंने मेरा लिपलॉक किया और मेरी जीभ को चूसने लगे। एक हाथ से मम्मों को मसल रहे थे और जीभ से चूत का दाना सहला रहे थे। मैंने उनको जोर से पकड़ रखा था। मैंने कहा चाचाजी मुझे आपका लंड फिर से चूसना है। चाचाजी ने कहा मैं तो तेरा गुलाम हूँ मुझे तू बोल आप नहीं।

मैंने कहा ठीक है। चाचाजी ने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया। मुझे उनका हब्शी लंड चूसने में बड़ा मजा आ रहा था। हम दोनों 69 में आ गए वो मेरी चूत को चाट रहे थे और मैं अपनी गांड उठा उठा कर चूत चटा रही थी। अब चाचाजी मेरे टांगों बीच में आ गए और कहने लगे बहू तेरी चूत नहीं है ये गरम भट्टी है तेरी जैसी लुगाई आज तक नहीं देखी आह साली मस्त है रे तू मेरी कुतिया आज तो मैं तेरी चूत को खा जाऊँगा। मैंने कहा चल खा जा साले मेरा पानी निकाल दे हरामी अह। चाचाजी बोल रहे थे हाय मेरी रंडी। उन्होंने मेरी चूत में अपनी लंबी जीभ डाल दी और जीभ से चूत को चोदने लगे। मैं आहह मर जाऊँगी मेरे चाचा तूने क्या कर दिया आज मुझे अपनी बना ले और मेरी चूत का सलाद बना दे। ले रंडी ले साली। मैंने कहा चाचा मेरे से अब रहा नहीं जा रहा अब चोद दे। चाचाजी ने कहा अभी नहीं चोदूंगा पहले चूत को खाने दे। मैं तेरे मूसल से मेरी चूत खा मेरे भड़वे अह| चाचाजी नहीं कुतिया अभी और मजा ले ले। वो मुझे तड़पा रहे थे और मुझसे सहन नहीं हो रहा था।

अब जैसे भी हो मुझे बस लंड चाहिए था। मैंने उनको उकसाने के लिए कहा लगता है तुम्हारे लंड में जान नहीं है साले तेरा लंड कुछ काम का नहीं है चल हट साले भड़वे। अब वो थोड़े गुस्सा हुए और उन्होंने मेरी टांगें खोलते हुए अपने हब्शी लंड को मेरी छोटी सी चूत के आगे टिका दिया फिर बोले ले अब भोसड़ी की मेरे मूसल को झेल। यह कहते हुए उन्होंने एक ठोकर मारी पर उनका लंड अन्दर नहीं जा पा रहा था इतना मोटा जो था। मैंने कहा चाचा लवड़े साले डाल इसको अन्दर। उन्होंने थोड़ा आगे पीछे होते हुए 3 4 धक्के लगाए तब उनके मोटे लंड का आंवला सरीखा सुपारा चूत की फांकों को चीरता हुआ अन्दर को चला गया। अब वो मुझे चोदते हुए और मेरे दूध मसकते हुए कहने लगे बहू बहुत मजा आ रहा है तू साली चीज बड़ी मस्त है।

मुझे हालांकि उनके मोटे लंड से तकलीफ हो रही थी पर मैं दांतों को भींचे हुए उनके लंड की मोटाई को अपनी चूत में जज्ब करने की कोशिश कर रही थी। कुछ ही देर में रस के कारण चूत ने दर्द को भुला दिया और मैं अपनी गांड उठाकर चुदवाने लगी। कुछ देर बाद उनका पूरा लंड चूत की जड़ तक अन्दर बाहर होने लगा और धमाकेदार धक्कों से मेरी चूत का बाजा बज उठा। इसके बाद उन्होंने फिर मुझे उल्टा किया और मेरी गांड में जीभ डाल दिया। मैं मस्ती में आह करने लगी। उन्होंने अपने लंड को पीछे से चूत में पेल दिया और जोरों से चोदने लगे। मैं चिल्लाए जा रही थी। कुछ देर चोदने के बाद उन्होंने कहा मैं आने वाला हूँ। अब मैं सीधी हो गई और वो मुझे ऊपर से चोदने लगे। मेरा शरीर भी अकड़ने लगा था। चाचाजी ने कहा रेखा बोल बीज कहाँ डालूँ ? मैंने कहा चाचाजी सब माल अन्दर ही डाल दो जो होगा सो देखा जाएगा। उन्होंने अपने लंड का पानी मेरी चूत में ही छोड़ दिया और मेरे ऊपर निढाल हो गए। मेरी चूत से उनका रस बहता रहा।

बाद में उन्होंने मुझे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गए। चाचा ने मेरी चूत को साफ किया। अब मुझे कुछ शर्म आ रही थी। मैंने उनको सॉरी बोला कि मुझसे ग़लती हो गई। तब उन्होंने कहा बहू ऐसा मत सोच मुझे एक औरत की जरूरत थी और तुझे एक मर्द की वही किया है हम दोनों ने। इसमें कुछ ग़लत नहीं है। मैं मुस्कुरा कर चाचा जी से लिपट गई। उस रात उन्होंने मेरी गांड भी मारी और जब तक चाचा जी हमारे घर रहे, तब तक ससुर में मुझे यानी अपनी बहु की चुदाई रोज 3 4 बार की। मैं उनका पानी पी जाती थी। तो दोस्तों ये थी हमारी रिश्तो की चुदाई। हर किसी के साथ कभी न कभी ऐसा हो ही जाता है की रिश्तो को दूसरा नाम देना पड़ता है।

Print This Page

Related posts