Chachi Ki Adhuri Sexy Pyas Ki Tripti

Aap ne meree aapabeetee “meree yaadagaar suhaagaraat” padhee hogee. Ye bhee ek aapabeetee hee hai, lekin meree khud kee nahee, balki mere instityoot mein padhane aane vaale ek ladake raaj kee. Vo 22 saal ka ek theek dikhane vaala paanch phut nau inch lamba, kareeb 32 inch kamar ka theek thaak ladaka hai. Vo bharatapur ka rahane vaala hai aur udhar unaka apana khud ka makaan hai.

Raaj mere paas kampyootar kors karane jayapur aaya hua hai. Vo beech beech mein apane ghar jaata rahata hai. Us makaan ke ek hisse mein unhonne ek kiraayedaar rakha hua hai.

Kiraayedaar ke ek ladaka aur ek ladakee hain. Ladakee kee shaadee ho chukee hai aur jab vo preganant huee to apane maayake mein aa gaee. Lagabhag poore din the to usakee mammee ne apanee devaraanee ko ghar ke kaam kaaj mein help ke lie bulava liya. Ye chaachee bhee jayapur mein hee rahatee hai. Shaadee shuda betee se dheere dheere raaj kee seting ho gaee. Jab bhee mauka milata usake boobs daba deta aur kis karata rahata tha. Lekin chodana isalie nahee ho paaya ki use poore dinon kee preganensee thee. Ladakee kee chaachee bhee aa gaee gol chehara, suta hua paanch phut chaar inch ka badan, aakarshak choochiyaan ki pooree hathelee mein aa jaayen. Chaachee 35-36 saal kee hai aur teen bachchon kee maan hote hue bhee naee navelee jaisee lagatee hai.

Raaj ne chaachee se baatacheet shuroo kee, chaachee ne bhee interest lena shuroo kar diya, ek din mauka paakar raaj ne chaachee se kis maang liya. To chaachee ne naaraajagee dikhaee. Raaj bechaara apana sa muh lekar dar gaya aur chupachaap apane kamare mein chala aaya.

Lekin agale din jab donon phir mile to ekaant paakar chaachee ne raaj ko bola ki tum mera kis lena chaahate ho na, le lo. Ab raaj ne himmat karake chaachee ko lips par bade jor ka kis kiya. Ab to jab bhee mauka milata boobs dabaane aur choomane chaatane ka daur chaaloo ho jaata. Lekin chodane ka mauka nahee mil raha tha. Itana ekaant us kiraaye ke makaan mein un logon ke paas nahee tha.

Dheere dheere chaachee ne raaj ko bataaya ki usake pati ka janaral stor hai, aur raat ko jab bhee usakee ichchha chodane kee hotee hai, usake kapade oonche karake 3-4 minat mein chod chaad ke so jaata hai, na choomana chaatana, na haath pherana, na kis, na garmaana. Bolee ki meree ichchha to kabhee pooree hee nahee hotee hai, isalie tumase lagee hoon.

Ab chhuttee bita ke raaj jayapur aa gaya, chaachee ke mobail nambar usane le lie. Kuchh din mein jab bhateejee ko diliveree ho gaee to chaachee bhee jayapur apane ghar aa gaee, jayapur mein raaj aur chaachee donon hee kiraaye ke makaanon mein rahate hain. Chaachee ke paas 2 kamaron ka makaan hai lekin raaj ke paas 2 kamare aur ek koman room hai.

Donon ke ghar ke beech teen kilomeetar ka phaasala hai. Raaj ke mammee, paapa aur bade bhaee mein se kabhee koee kabhee koee aata jaata rahata hai. Raaj jayapur aane ke baad chaachee se lagaataar baaten karata rahata tha. Bahut garam baaten hotee thee. Ek din raaj ne, jab usake koee aane vaala nahee tha, chaachee ko khud ke ghar aane ka nimantran diya, jo chaachee ne saharsh sveekaar kar liya. Raaj ne usako bola ki tum mera jor se chodan karogee ya main tumhaara to chaachee ne bola ki ye to vakt bataega.

Agale din chaachee dopahar mein 3 baje raaj ke yahaan pahuch gaee, ekadam tait pajaama aur oopar kurata. Kamare ke andar aate hee donon ek doosare kee baanhon mein bandh gae. Donon ke hont ek doosare ke saath chipak gae aur bahut lamba kis ka ek daur chala. Chaachee ke haath raaj ki kameej ke andar poore shareer par chal rahe the, chal kya rahe the yo kahen ki chaachee uttejana mein raaj ko kharonch rahee thee. Badee mushkil se donon thodee der ke lie alag hue to raaj ne bola ki ye pajaama itana tait hai utarega kaise to chaachee ne khud utaar diya. Zara see der mein hee ek doosare ko kapadon se alag kar diya. Ab chaachee ne raaj ke shareer ka koee hissa nahee chhoda jahaan kis nahee kiya ho.

Uttejana ke maare chaachee ka haal bura tha. Vo ghareloo aurat raaj ke land tak ko choos gaee. Raaj kee peeth aur seene par chaachee kee ungaliyon kee kharonch chhap gaee. Aakhir kaee barason mein shaadee ke baad usakee chudaee kee ichchha joradaar dhang se pooree ho rahee thee. Raaj ne bhee chaachee ko khoob chooma, jeebh choosee, bobe choose, khoob dabae, choot ko land se ragada.

Chaachee kee choot buree tarah se geelee ho chukee thee. Chaachee ne raaj ko oopar aane ko bola aur bed par seedhee let gaee. Raaj chaachee kee donon taango ko chauda kar ke beech mein baith gaya aur apane land ko chaachee kee choot pe laga ke apana land chaachee kee choot mein gahare utaar diya. Chaachee ke muh se ek lambee seetkaar nikalee. Hont ek doosare ke saath chipak gae. Donon ne ek doosare ko choosana shuroo kar diya. Raaj ke donon haathon mein chaachee ke donon bobe the jinako vo khoob daba raha tha. Land dheere dheere andar baahar ho raha tha.

Dheere dheere chaachee kee gaand hilane lagee, vo neeche se dhakke maarane lagee, aur raaj ne jor jor se dhakke maarana shuroo kar diya, land chaachee kee choot mein oopar se chaaloo hokar khoob gahare tak ja raha tha. Chaachee ne raaj ko donon haathon se daboch rakha tha aur apanee donon taango ko raaj kee kamar par lapet rakha tha. Raaj ko jab orgaasm hua tab tak chaachee ko do baar ho chuka tha. Ab donon ke hont khule. Donon nange ek doosare par pade rahe, chaachee do ghante vahaan rahee aur total teen baar donon ne jabaradast tareeke se bina ek doosare se alag hue chudaee kee.

Chaachee kee aankhon mein trpti aa chukee thee.

Shaam ko saade paanch baje raaj ka fon mere paas aaya ki main aapase abhee milana chaahata hoon. Vo jab mere paas aaya to usane mujhe apana oopar ka shareer dikhaaya. Poore shareer par kharonch ke nishaan the. Aakhir chaachee ne raaj ka deh shoshan kar diya. Vo bola sar aaj to jabaradast kasarat huee hai. Poora shareer duhkh raha hai.

Usake baad chaachee har saptaah kam se kam ek baar jaroor raaj se chudavaatee hai, ek saal ho gaya hai. Is beech usane apane pati ko bhagavaan kee kasam dila dee hai ki vo use haath nahee lagaaye. Pati ne jabaradastee karane kee koshish kee to donon haathon se door kar diya. Ab vo raaj ko hee apana pati maanatee hai. Jabaki donon mein 13 saal ka phark hai.

Jis ke peechhe duniya ma en kaee yuddh hue, raaja mahaaraajaon kee kya bisaat rshi, muniyon tak kee tapasya bhang ho gaee, us khel ko hamesha lamba aur param aanand daayak banaana chaahie nahee to ek seedhee saadee aurat tak kya ho gaee, ye sochane vaalee baat hai.

चाची कि अधूरी प्यास की तृप्ति

आप ने मेरी आपबीती “मेरी यादगार सुहागरात” पढ़ी होगी। ये भी एक आपबीती ही है, लेकिन मेरी ख़ुद की नही, बल्कि मेरे इंस्टिट्यूट में पढने आने वाले एक लड़के राज की। वो 22 साल का एक ठीक दिखने वाला पाँच फुट नौ इंच लंबा, करीब 32 इंच कमर का ठीक ठाक लड़का है। वो भरतपुर का रहने वाला है और उधर उनका अपना ख़ुद का मकान है।

राज मेरे पास कंप्यूटर कोर्स करने जयपुर आया हुआ है। वो बीच बीच में अपने घर जाता रहता है। उस मकान के एक हिस्से में उन्होंने एक किरायेदार रखा हुआ है।

किरायेदार के एक लड़का और एक लड़की हैं। लड़की की शादी हो चुकी है और जब वो प्रेगनंट हुई तो अपने मायके में आ गई। लगभग पूरे दिन थे तो उसकी मम्मी ने अपनी देवरानी को घर के काम काज में हेल्प के लिए बुलवा लिया। ये चाची भी जयपुर में ही रहती है। शादी शुदा बेटी से धीरे धीरे राज की सेटिंग हो गई। जब भी मौका मिलता उसके बूब्स दबा देता और किस करता रहता था। लेकिन चोदना इसलिए नही हो पाया कि उसे पूरे दिनों की प्रेगनेंसी थी। लड़की की चाची भी आ गई गोल चेहरा, सुता हुआ पाँच फुट चार इंच का बदन, आकर्षक चूचियां कि पूरी हथेली में आ जायें। चाची 35-36 साल की है और तीन बच्चों की माँ होते हुए भी नई नवेली जैसी लगती है।

राज ने चाची से बातचीत शुरू की, चाची ने भी इंटेरेस्ट लेना शुरू कर दिया, एक दिन मौका पाकर राज ने चाची से किस मांग लिया। तो चाची ने नाराजगी दिखाई। राज बेचारा अपना सा मुह लेकर डर गया और चुपचाप अपने कमरे में चला आया।

लेकिन अगले दिन जब दोनों फिर मिले तो एकांत पाकर चाची ने राज को बोला कि तुम मेरा किस लेना चाहते हो न, ले लो। अब राज ने हिम्मत करके चाची को लिप्स पर बड़े जोर का किस किया। अब तो जब भी मौका मिलता बूब्स दबाने और चूमने चाटने का दौर चालू हो जाता। लेकिन चोदने का मौका नही मिल रहा था। इतना एकांत उस किराये के मकान में उन लोगों के पास नही था।

धीरे धीरे चाची ने राज को बताया कि उसके पति का जनरल स्टोर है, और रात को जब भी उसकी इच्छा चोदने की होती है, उसके कपड़े ऊँचे करके 3-4 मिनट में चोद चाद के सो जाता है, न चूमना चाटना, न हाथ फेरना, न किस, न गर्माना। बोली कि मेरी इच्छा तो कभी पूरी ही नही होती है, इसलिए तुमसे लगी हूँ।

अब छुट्टी बिता के राज जयपुर आ गया, चाची के मोबाइल नम्बर उसने ले लिए। कुछ दिन में जब भतीजी को डिलिवेरी हो गई तो चाची भी जयपुर अपने घर आ गई, जयपुर में राज और चाची दोनों ही किराये के मकानों में रहते हैं। चाची के पास 2 कमरों का मकान है लेकिन राज के पास 2 कमरे और एक कोमन रूम है।

दोनों के घर के बीच तीन किलोमीटर का फासला है। राज के मम्मी, पापा और बड़े भाई में से कभी कोई कभी कोई आता जाता रहता है। राज जयपुर आने के बाद चाची से लगातार बातें करता रहता था। बहुत गरम बातें होती थी। एक दिन राज ने, जब उसके कोई आने वाला नही था, चाची को ख़ुद के घर आने का निमंत्रण दिया, जो चाची ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। राज ने उसको बोला कि तुम मेरा जोर से चोदन करोगी या मैं तुम्हारा तो चाची ने बोला कि ये तो वक्त बताएगा।

अगले दिन चाची दोपहर में 3 बजे राज के यहाँ पहुच गई, एकदम टाइट पजामा और ऊपर कुरता। कमरे के अन्दर आते ही दोनों एक दूसरे की बाँहों में बंध गए। दोनों के होंट एक दूसरे के साथ चिपक गए और बहुत लंबा किस का एक दौर चला। चाची के हाथ राज कि कमीज के अन्दर पूरे शरीर पर चल रहे थे, चल क्या रहे थे यो कहें कि चाची उत्तेजना में राज को खरोंच रही थी। बड़ी मुश्किल से दोनों थोडी देर के लिए अलग हुए तो राज ने बोला कि ये पजामा इतना टाइट है उतरेगा कैसे तो चाची ने ख़ुद उतार दिया। ज़रा सी देर में ही एक दूसरे को कपडों से अलग कर दिया। अब चाची ने राज के शरीर का कोई हिस्सा नही छोड़ा जहाँ किस नही किया हो।

उत्तेजना के मारे चाची का हाल बुरा था। वो घरेलू औरत राज के लंड तक को चूस गई। राज की पीठ और सीने पर चाची की उँगलियों की खरोंच छप गई। आख़िर कई बरसों में शादी के बाद उसकी चुदाई की इच्छा जोरदार ढंग से पूरी हो रही थी। राज ने भी चाची को खूब चूमा, जीभ चूसी, बोबे चूसे, खूब दबाए, चूत को लंड से रगडा।

चाची की चूत बुरी तरह से गीली हो चुकी थी। चाची ने राज को ऊपर आने को बोला और बेड पर सीधी लेट गई। राज चाची की दोनों टांगो को चौडा कर के बीच में बैठ गया और अपने लंड को चाची की चूत पे लगा के अपना लंड चाची की चूत में गहरे उतार दिया। चाची के मुह से एक लम्बी सीत्कार निकली। होंट एक दूसरे के साथ चिपक गए। दोनों ने एक दूसरे को चूसना शुरू कर दिया। राज के दोनों हाथों में चाची के दोनों बोबे थे जिनको वो खूब दबा रहा था। लंड धीरे धीरे अन्दर बाहर हो रहा था।

धीरे धीरे चाची की गांड हिलने लगी, वो नीचे से धक्के मारने लगी, और राज ने जोर जोर से धक्के मारना शुरू कर दिया, लंड चाची की चूत में ऊपर से चालू होकर खूब गहरे तक जा रहा था। चाची ने राज को दोनों हाथों से दबोच रखा था और अपनी दोनों टांगो को राज की कमर पर लपेट रखा था। राज को जब ओर्गास्म हुआ तब तक चाची को दो बार हो चुका था। अब दोनों के होंट खुले। दोनों नंगे एक दूसरे पर पड़े रहे, चाची दो घंटे वहां रही और टोटल तीन बार दोनों ने जबरदस्त तरीके से बिना एक दूसरे से अलग हुए चुदाई की।

चाची की आँखों में तृप्ति आ चुकी थी।

शाम को साडे पाँच बजे राज का फ़ोन मेरे पास आया कि मैं आपसे अभी मिलना चाहता हूँ। वो जब मेरे पास आया तो उसने मुझे अपना ऊपर का शरीर दिखाया। पूरे शरीर पर खरोंच के निशान थे। आख़िर चाची ने राज का देह शोषण कर दिया। वो बोला सर आज तो जबरदस्त कसरत हुई है। पूरा शरीर दुःख रहा है।

उसके बाद चाची हर सप्ताह कम से कम एक बार जरूर राज से चुदवाती है, एक साल हो गया है। इस बीच उसने अपने पति को भगवान की कसम दिला दी है कि वो उसे हाथ नही लगाये। पति ने जबरदस्ती करने की कोशिश की तो दोनों हाथों से दूर कर दिया। अब वो राज को ही अपना पति मानती है। जबकि दोनों में 13 साल का फर्क है।

जिस के पीछे दुनिया में कई युद्ध हुए, राजा महाराजाओं की क्या बिसात ऋषि, मुनियों तक की तपस्या भंग हो गई, उस खेल को हमेशा लंबा और परम आनंद दायक बनाना चाहिए नही तो एक सीधी सादी औरत तक क्या हो गई, ये सोचने वाली बात है।

ALSO READ:-

Print This Page

Related posts