Sasur Ne Choda Mujhe

Lekhika : Kala Singh

Main ek saadhaaran parivaar kee ladakee hoon. Vaaraanasee ke ek ghanee aabaadee mein rahatee hoon. ससुर ने मुझे चोदा Mujhe bhee sab vahee shauk hain jo ek javaan ladakee ke hote hain. Mere parivaar mein bas meree MAA hai, pita kee yaad mujhe nahin hai, main jab bahut chhotee thee vo ek haadase mein gujar gaye the. Mere pados ke hee ek ladake se main pyaar karatee thee Sasur Ne Choda Mujhe.

Usaka naam RAHUL tha, usake pita apanee ek dukaan chalaaya karate the, jisase unakee achchhee aamadanee ho jaatee thee. RAHUL kee MAA nahin thee. RAHUL bada sharmeela ladaka tha, usane mujhe kabhee haath bhee nahin lagaaya tha. Usake pita kabhee kabhee mere ghar aate the, meree MAA se unakee achchhee dostee thee. Vo meree MAA ke saath seks sambandh bhee rakhate the. Meree MAA mauka pa kar unase chudava letee thee. Main unake is sambandh ke baare mein kuchh nahin kahatee thee. Par aisa soch kar ki MAA kaise chudavaatee hogee, unaka LUND kaisa hoga, mere man bhee chudaane kee ichchha hone lagatee thee.
Meree choot chudaasee ho uthatee thee. Par chudatee kaise, mauka hee nahin milata tha.
Mujhe ek din mauka mil gaya. Meree MAA MAMA jee ke yahaan do din ke liye gaee huee thee. Raat ko main akelee seks ke baare mein soch kar uttejit ho rahee thee.
Mera jism vaasana mein jalane laga tha. Meree choot mein paanee aane lag gaya tha. Main baichen ho uthee. Mainne choot mein ghusaane ke liye yaha vaha kuchh dhoondha to ek lamba vaala baingan mil gaya. Kapade utaar kar mainne use dheere se choot se lagaaya ki mujhe RAHUL ka dhyaan aa gaya. Mainne apana mobaeel uthaaya aur use ghar aane ko kaha. Mainne bas apane oopar ek lamba kurta daal liya ki nangaapan chhip jaaye.
Vo chhat ke raaste dabe paanv neeche aa gaya. Use dekh kar main khush ho gaee. Vo bhee baniyaan aur pajaamen mein tha.
Aisee haalat mein mainne use pahalee baar dekha tha. Usaka shareer balishth tha, masals kisee pahalavaan kee tarah ubharee huee thee.
“itanee raat ko….Kya baat hai…. Koee pareshaanee hai kya ?”
“haan RAHUL, akele dar lagata hai, tum raat ko yaheen rah jao.”
“tumhaare saath…. Yaanee ladakee ke saath…. Tum theek to ho na?”
” RAHUL pleej, main neeche so jaungee, tum yahaan so jaana !”
Vo soch mein pad gaya, phir bola – “theek hai main abhee aata hoon, oopar laeet band karake ye aaya.”
Kuchh hee der vo vaapis aa gaya.
“aa jao, isee palang par aa jao, abhee baaten karenge, jab neend aayegee to main neeche so jaungee”
Ham donon ek hee palang par pyaar kee baaten karane lage. Mujhe usaka saath pa kar taraavat aane lagee. Main paanee laane ke bahaane use apana badan dikhaane lagee. Kabhee apanee chhaatiyaan ubhaar kar use rijhaatee aur kabhee apane chootadon ko usake saamane matakaatee. Parinaam sukhad raha. Aakhir usake LUND ka ubhaar pajaame mein se uth kar dikhane laga.
Usakee aankho mein vaasana ke dore khinchane lage. Mainne kaMAA aur kas lee aur ek baar naatak karake apanee sudaul chootad kee golaeeyaan kurta oopar karake anajaan banate huye dikha hee dee. Usaka LUND kadak ho kar pajaame mein se baahar aane kee koshish karane laga. Mujhe ab pata chal gaya tha ki aaj meree raat rang bharee hone vaalee hai.
Main teevee ke paas khadee thee. RAHUL mere paas peechhe aa chuka tha. Usane meree peeth par haath rakh diya. Kuchh hone kee aashanka se mera man sihar utha. Usane dheere se meree kamar mein apana haath kas liya. Uttejana se meree aankhen band hone lagee. Usaka shareer meree peeth se chipak gaya.
“e RAHUL, kya kar rahe ho…. Tum vahaan baitho” ab mera shareefon jaisa naatak aarambh ho gaya.
“nahin MADHU, mujhe achchha lag raha hai….” usake haath ab meree chhaatiyon kee taraf badhane lage the.
“suno, tumhaara man maila to nahin ho gaya hai na….” mainne usakee vaasana ko ubhaara.
“mat poochho MADHU, tum ho hee itanee sundar ki…. Bas pleej….” usake haath mere ubhaaro par aa chuke the. Man kar raha tha ki haay ….Bas ab masal de….
“RAHUL mat karo pleej, haath hata lo….” mainne apane dono haath usake haathon par rakh diye par hataaye nahee. Usake haath meree chhaatiyon ko kasane lage.
“haay kitane kathor aur mast hain….”
“chalo hato….” mainne usake haath hataaye aur chhitak kar door hat gaee,”RAHUL, aise nahin….SHADI ke baad….”
“are soree, pata nahin mujhe kya ho gaya tha.” usane turant maafee MAAg lee aur ham phir se bistar par let kar teevee dekhane lage. Achaanak rahul ne lete lete hee mujhe daboch liya aur apane honth mere hontho se chipaka diye aur mere oopar chadh gaya. Main mast ho uthee ki apane aap laeen par aa gaya. Mera kurta oopar utha diya aur pajaame mein khada LUND meree choot se chipaka diya.
“RAHUL….Ye kya…. Hat ja…. Dekh mera kurta oopar ho gaya hai.”
“MADHU, pajaama bhee mainne utaar diya hai, baraabar ho gaya na.”
Usaka nanga LUND meree choot se ragad khaane laga. Mainne bhee choot ko ubhaar kar usake LUND ko bulaava diya ki main taiyaar hoon.
“MADHU, tum sach mein kudarat kee ek kala ho, aisa pyaara jism, pyaare ubhaar, aur tumhaaree ye pyaaree see muniya….”
Kahate huye usane apana LUND meree naee navelee choot kunvaaree choot mein ghusa daala.
“maiya ree…. Main mar gaee….Dheere se….” mujhe tej dard hua. Shaayad mera kunvaaraapan jaata raha tha. Jhillee shaayad fat chukee thee. Usake munh se bhee ek halkee karaah nikal gaee. Shaayad RAHUL ke LUND kee skin bhee fat gaee thee. Par josh mein LUND ghusata hee chala gaya. Ham donon ne ek doosare ko samaahit kar liya tha. Ab ham ruke rahe…. Aur apane aap ko kantrol karate rahe. Phir dheere se ek dhakka aur lagaaya. Main phir se cheekh uthee. Usane mujhe pyaar se nihaara aur choomane laga.
“tum meree jaan ho MADHU, mera pyaar ho, tumhare bina main jee nahin sakata.”
“mere raaja, mere tum hee sab kuchh ho, mujhe aur pyaar karo, mujhe jannat mein pahuncha do”
Usane ab dheere dheere mujhe chodana chaaloo kar diya. Meree choot bhee ka dard bhee ab shanai: shanai: kam hone laga. Usakee raftaar badhatee gaee. Main ab sukh ke saagar mein gote khaane lagee. Meree kamar bhee ab uchhaal maar rahee thee. LUND pooree gaharaee tak mujhe chod raha tha. Jaane kab main sukh ke  saagar mein bah gaee aur meree javaanee mein ubaal aa gaya, aur yauvan ras chhalak utha, meree choot bhee usake veery se labaalab bhar uthee. Ham nidhaal ho  kar shithil pad gaye.Par kitanee der tak pade rahate, kaamadev ke teer par teer chal rahe the, javaanee ne phir angadaee lee aur doosara daur aarambh ho gaya. Phir se ham ek doosare mein saMAAe lage, is baar kee chudaee pahale se lambee aur jyaada sukhad thee.Raat bhar jaane daur chal chuke the, savere hote hote RAHUL chala gaya. Mera man shaant tha, gahare samundar kee tarah koee halachal nahin thee. Main gaharee neend mein doobatee chalee gaee.Aankh khulee to din ke gyaarah baj rahe the. Chaadar mein laga khoon sookh chuka tha. Mere badan mein bhee veery aur khoon ke sookhe nishaan chipak gaye the. Main turant uthee par jism dukh raha tha, toot raha tha, ekadam se main ladakhada gaee. Mainne chaadar bistar par se kheench lee aur lekar baath room mein aa gaee. Main achchhee tarah se nahaee aur kapade saabun ke paanee mein bhiga diye.MAA aa chukee thee. Meree najaron kee choree chhupaaye nahin chhup rahee thee. MAA kee anubhavee aankhon ne sab kuchh bhaamp liya tha. Us din to vo kuchh nahin bolee par main samajh chukee thee ki MAA ko shak ho gaya hai. Mainne raat ko MAA se lipat kar dheere dheere sab baat bata dee. MAA ko RAHUL ke baare mein jab pata chala to unhonne chain kee saans lee.RAHUL ke paapa ko manaana MAA ke liye saral tha kyonki MAA aur usake pita ka to chudaee ka kaaryakram chalata rahata tha.Hamaara sachcha pyaar rang laaya aur sab kuchh theek ho gaya. Ek din SHADI ka samay bhee aa gaya. Is beech RAHUL aur main kaee baar chudaee kar chuke the yaanee bahut see suhaag raaten mana chuke the. Theek samay par hamaare ghar ab ek lakshmee ne janm liya. Hamaaree adhooree jindagee poorn ho gaee.Kuvait se RAHUL ko kaam karane ka ek sunahara avasar aaya. Aur kuchh samay ke baad vo kuvait chala gaya. Usakee achchhee kamaee thee. Mera ghar bharane laga par man khaalee khaalee rahane laga. Vo saal saal bhar baad aata tha. Meree shareer kee aavashyakataon ko bhee najar andaaj karane laga, shaayad paisa hee ab usake liye sabakuchh ho gaya tha. Ab mera man bhatakane lag gaya tha. RAHUL ke pita ab raat bhee MAA ke saath bitaane lage the. Main bhee raat ko lakshmee ke sone ke baad unakee chudaee ko kaise na kaise karake choree se dekhatee thee, aur raat bhar tadapatee rahatee thee. Kabhee kabhee to main khoob rotee aur phir ye soch kar rah jaatee ki RAHUL ne mere liye kitana kuchh kiya.Par ek din aisa hua ki ……..Din ko main apane kamare mein aaraam kar rahee thee, ek jhapakee lagee hee thee ki kisee ne mujhe daboch liya. Sukhad aashchary se mainne aankhe nahin kholee. Shaayad bhagavaan ne meree sun lee thee. Usake haath meree stanon par aa kar use dabaane lage. Jism romance se bhar utha. Ye registhaan mein hariyaalee kaisee? Par aankh khulate hee meree cheekh nikal padee.Vo RAHUL ke pita BABU jee the…. Maatr chaddee mein the, unaka LUND fufakaaren bhar raha tha, unakee aakhe vaasana mein doobee huee thee….Mainne unhe dhakelete hue kaha,”BABU jee….Ye kya kar rahe hai aap….!”“bhosadee kee, choot sookh jaayegee, chudava le….!”main unakee bhaasha par sann rah gaee, ye kya kah rahe hain !“BABU jee, main to aapakee bahoo hoon…. Aisa na kariye !” mainne unase praarthana kee.“saalee haraam jaadee, teree MAA ko chudate hue roj dekhatee hai, aur chhinaal apanee choot ko haath se ghisatee hai, BABU jee mar gaye the kya ?”ab vo mera peteekot kheench rahe the. Unhonne apanee chaddee utaar fenkee aur mujhe choomane lage. Unaka mota lauda uchhal kar baahar aa gaya. Meree choonchiyaan sahalaane aur dabaane lage. Unaka LUND to bahut hee mota aur lamba tha. Meree vaasana jaagane lagee. Lambe intazaar ke baad meree ichchha ke anusaar hee aisa mast LUND mil raha. Use haath mein lene kee ichchha prabal ho uthee. Mainne sharam chhod kar unaka LUND pakad liya.“ye huee na baat, meree jaan, le le mera lauda le le, chudavaale bhosadee kee….”“BABU jee meree bhee gaalee dene kee ichchha ho rahee hai, doon kya maadarachod gaalee tujhe ?”“meree randee, teree MAA ko chodoon, de mujhe de gaalee, haraamee, de gaalee, maja aayega.”“to bhen chod maar de meree fuddee ko, saala mustanda lauda, ghused de meree bhosadee mein….” mujhe bhee aaj mauka mil gaya man kee bhadaas nikaalane ka. Mujhe pata tha itana mota LUND mujhe mast karane vaala hai. MAA kee kismat par main jalane lagee ki itane solid LUND se chudavaatee rahee aur mujhe poochha tak nahin. Main to RAHUL ke dubale patale LUND se hee santusht thee, meree MAA kitanee khudagarj hai chudavaane ke MAMAle mein…..Meree choot ko dekhate hue bole,“ haay re meree betee, itanee see muniya hai re teree to….Aur pond itane se?”“BABUjee, aaj kal ladakiyaan itanee hee naajuk hotee hain” meree gaand ko tatolate hue apana haath ferane lage.“meree laado, jara gaand to meree taraf kar, isaka bhee maja le loon jara !”main ultee ho kar ghodee jaisee ho gaee aur apane chootad poore ubhaar diye.

BABU jee ka LUND tanna utha meree gol gol gaand dekh kar. Unhonne paas padee kreem uthaee aur meree gaand mein bhar dee.“BABU jee kya kar rahe ho…. Meree to chhotee see gaand hai, achchhee hai na?”“mast hai re, saalee ko machakaane ko man kar raha hai.” aur unhone apanee ek angulee meree gaand mein daal dee. Halka sa maja aaya.“haay re BABU jee, mujhe apanee laundee bana lo, apane paas hee rakh lo.”“haan meree MADHU raanee, tu bahut hee sundar hai, tera har ang naajuk hai.”“mujhe aapakee daasee bana lo, mujhe bas chod daalo apane mote LUND se, dekho choot kitanee pyaasee ho rahee hai.”“shaabaash betee…. Ye huee na baat…. Ab dekh main tujhe kaisa mast karata hoon”meree gaand kee donon golaeeyon ko vo sahalaane lage aur unaka mota LUND gaand ke chhed par lag gaya. Main ghabara uthee, itanee chhotee see gaand mein itana mota LUND. Meree to MAA chud jaayegee ….

Mainne peechhe mud ke dekha, BABUjee ka chehara vaasana se laal ho utha tha, unaka LUND gaand dekh kar kadak utha tha. Mainne jaldee se apanee gaand ko unake saamane se hataane kee koshish kee par unhonne apane haathon se meree kamar kas ke thaam lee. LUND ka supaada chikanaee lagee gaand ke chhed par aa tika tha. Ab BABU jee ne jor lagaaya to LUND neeche fisal pada.“ BABU jee…. Ye nahin karo, nahin jaayega.” par doosaree baar mein meree gaand ke chhed ko failaate hue supaada andar ghus pada . Main cheekh padee.“are faad daalee re meree gaand, maadarachod….

Chhod mujhe, haay re BABU jee !” BABU jee ka supaada meree gaand ko cheerata hua gaharaee naapane laga.“bitiya, itanee pyaaree pond ko maaree nah.Na, to phir kya maja aayega.”“saale, haraamee, nikaal de re LUND ko baahar…. Meree MAA ko phod ja kar ….” mujhe aseem dard hone laga. Bhala ho chikanaee ka jo LUND ko andar baahar karane mein madad kar rahee thee.“ab shaant ho ja modee, gaand to main chhodoonga nahee…. Chal bhosadee kee aur jhuk ja….” meree peeth ko haath se daba kar jhuka diya aur LUND pelane laga. Main cheekhatee rahee…. Usaka lauda ab theek se gaand mein set ho gaya tha aur gaand ko cheerata hua maja le raha tha. Mere aansoo nikal pade…. Dard ke maare main last ho gaee. Munh se aavaaj tak nikalana band ho gaee. Main apanee pond oopar uthaaye apane gaand ke chhed ko jitana ho sake dheela karane kee koshish karatee rahee taaki dard kam ho. Unake dhakke badhate gaye….

Meree cheekhen haalaanki kam ho gaee thee par dhakke ke saath karaah nikal hee jaatee thee.“aaj to mastaanee gaand ka maja aa gaya…. Modee teree pond to maje kee hai…. Dekh do din mein ise mere laude kee saeez ka kar doonga.”mujhe kuchh sunaee nahin de raha tha. Achaanak BABU jee ne laude ka poora jor meree gaand mein laga diya aur main phir se ek baar cheekh uthee…. BABU jee ka badan ka kasaav badh gaya aur achaanak mujhe gaand ke andar paanee bharata sa laga. BABU jee ne apana LUND baahar nikaal liya aur pichakaaree hava mein uchhaal dee. Dher saara veery LUND ne chhod diya aur meree peeth pooree chikanee ho uthee. Veery gaand ke chhed mein aur peeth par fail gaya tha. Mujhe atyant sukhad prateet hua ki itane mote LUND se nijaat milee. Main bistar se lag gaee aur aankhe band kar lee aur gaharee saansen lene lagee.
BABUjee ne chaadar se hee apana veery saaf kar diya.“chud gaee meree betee…. MADHU maja aaya na?” MAA ne kamare mein aate hue kaha.“haan meree bitiya….

Teree MAA hee ne mujhe tujhe chodane ke liye kaha tha, teree tadap isase sahee nahin ja rahee thee.” BABU jee ne rahasy khola. Main chaunk uthee, par MAA ne meree bhaavanaon ka khyaal rakha, mujhe bahut achchha laga.” MAA, aap mera kitana dhyaan rakhatee hain …. Par dekho na BABU jee ne mere saath kya kiya !” mainne shikayat kee aur apanee pond dikhaee.“are maadarachod, meree betee kee to toone gaand maar dee, apane mote LUND ka khyaal to rakha hota….” MAA ne gussa hote hue kaha.“main kya karoon, teree betee kee pond itanee mast thee ki use maaranee padee, mera lauda bhee to saala gaand dekh kar aisa bhadak uthata hai ki bas….” BABU jee ne apanee majabooree jataee.“saala kameena, dekh gaand kee kya haalat kar dee hai….”“chhod na MAA, chaahe lagee ho, par BABU jee ka LUND mast hai…. Ab to main roj hee chudaoongee.” mainne MAA ko samajhaaya. Chaahe jo ho BABU jee ka LUND mast tha, use main kaise chhodatee.MAA ne mujhe gale laga liya…. “mujhe bhee to inake LUND ka chaska laga hua hai na…. Saala bharapoor CHODTA hai….Mast kar deta hai” BABU jee apanee taareef sun kae itaraaye ja rahe the…. Aur phir unhone MAA ko daboch liya. Aur usake oopar chadh gaye.Randee, ab utha le apanee taang…. Lauda taiyaar hai….” MAA kasamasaatee rahee par chudaee chaaloo ho gaee thee. MAA neeche dabee huee sisakaariyaan bhar rahee thee, aur BABU jee chodate rahe…….. Pelate rahe…. MAA kee chudatee rahee, main MAA ko mast hote dekhate rahee.

ससुर ने मुझे चोदा

लेखिका : कला सिंह

मैं एक साधारण परिवार की लड़की हूँ। वाराणसी के एक घनी आबादी में रहती हूँ। मुझे भी सब वही शौक हैं जो एक जवान लड़की के होते हैं। मेरे परिवार में बस मेरी मां है, पिता की याद मुझे नहीं है, मैं जब बहुत छोटी
थी वो एक हादसे में गुजर गये थे। मेरे पड़ोस के ही एक लड़के से मैं प्यार करती थी।

उसका नाम राहुल था, उसके पिता अपनी एक दुकान चलाया करते थे, जिससे उनकी अच्छी आमदनी हो जाती थी। राहुल की मां नहीं थी। राहुल बड़ा शर्मीला लड़का था, उसने मुझे कभी हाथ भी नहीं लगाया था।
उसके पिता कभी कभी मेरे घर आते थे, मेरी मां से उनकी अच्छी दोस्ती थी। वो मेरी मां के साथ सेक्स सम्बन्ध भी रखते थे। मेरी माँ मौका पा कर उनसे चुदवा लेती थी। मैं उनके इस सम्बन्ध के बारे में कुछ नहीं
कहती थी। पर ऐसा सोच कर कि मां कैसे चुदवाती होगी, उनका लण्ड कैसा होगा, मेरे मन भी चुदाने की इच्छा होने लगती थी। मेरी चूत चुदासी हो उठती थी। पर चुदती कैसे, मौका ही नहीं मिलता था।

मुझे एक दिन मौका मिल गया। मेरी माँ मामा जी के यहां दो दिन के लिये गई हुई थी। रात को मैं अकेली सेक्स के बारे में सोच कर उत्तेजित हो रही थी। मेरा जिस्म वासना में जलने लगा था। मेरी चूत में पानी आने लग
गया था। मैं बैचेन हो उठी। मैंने चूत में घुसाने के लिये यहा वहा कुछ ढूंढा तो एक लम्बा वाला बैंगन मिल गया। कपड़े उतार कर मैंने उसे धीरे से चूत से लगाया कि मुझे राहुल का ध्यान आ गया। मैंने अपना मोबाईल
उठाया और उसे घर आने को कहा। मैंने बस अपने ऊपर एक लम्बा कुर्ता डाल लिया कि नंगापन छिप जाये।

वो छत के रास्ते दबे पांव नीचे आ गया। उसे देख कर मैं खुश हो गई। वो भी बनियान और पजामें में था।

ऐसी हालत में मैंने उसे पहली बार देखा था। उसका शरीर बलिष्ठ था, मसल्स किसी पहलवान की तरह उभरी हुई थी।

“इतनी रात को….क्या बात है…. कोई परेशानी है क्या ?”

“हां राहुल, अकेले डर लगता है, तुम रात को यहीं रह जाओ।”

“तुम्हारे साथ…. यानी लड़की के साथ…. तुम ठीक तो हो ना?”

” राहुल प्लीज, मैं नीचे सो जाउन्गी, तुम यहाँ सो जाना !”

वो सोच में पड़ गया, फिर बोला – “ठीक है मैं अभी आता हूँ, ऊपर लाईट बन्द करके ये आया।”

कुछ ही देर वो वापिस आ गया।

“आ जाओ, इसी पलंग पर आ जाओ, अभी बातें करेंगे, जब नींद आयेगी तो मैं नीचे सो जाउंगी”

हम दोनों एक ही पलंग पर प्यार की बातें करने लगे। मुझे उसका साथ पा कर तरावट आने लगी। मैं पानी लाने के बहाने उसे अपना बदन दिखाने लगी। कभी अपनी छातियाँ उभार कर उसे रिझाती और कभी अपने
चूतड़ों को उसके सामने मटकाती। परिणाम सुखद रहा। आखिर उसके लण्ड का उभार पजामे में से उठ कर दिखने लगा।

उसकी आंखो में वासना के डोरे खिंचने लगे। मैंने कमान और कस ली और एक बार नाटक करके अपनी सुडौल चूतड़ की गोलाईयां कुर्ता ऊपर करके अनजान बनते हुये दिखा ही दी। उसका लण्ड कड़क हो कर पजामे
में से बाहर आने की कोशिश करने लगा। मुझे अब पता चल गया था कि आज मेरी रात रंग भरी होने वाली है।

मैं टीवी के पास खड़ी थी। राहुल मेरे पास पीछे आ चुका था। उसने मेरी पीठ पर हाथ रख दिया। कुछ होने की आशंका से मेरा मन सिहर उठा। उसने धीरे से मेरी कमर में अपना हाथ कस लिया। उत्तेजना से मेरी आंखें
बन्द होने लगी। उसका शरीर मेरी पीठ से चिपक गया।

“ए राहुल, क्या कर रहे हो…. तुम वहाँ बैठो” अब मेरा शरीफ़ों जैसा नाटक आरम्भ हो गया।

“नहीं मधु, मुझे अच्छा लग रहा है….” उसके हाथ अब मेरी छातियों की तरफ़ बढने लगे थे।

“सुनो, तुम्हारा मन मैला तो नहीं हो गया है ना….” मैंने उसकी वासना को उभारा।

“मत पूछो मधु, तुम हो ही इतनी सुन्दर कि…. बस प्लीज….” उसके हाथ मेरे उभारो पर आ चुके थे। मन कर रहा था कि हाय ….बस अब मसल दे….

“राहुल मत करो प्लीज, हाथ हटा लो….” मैंने अपने दोनो हाथ उसके हाथों पर रख दिये पर हटाये नही। उसके हाथ मेरी छातियों को कसने लगे।

“हाय कितने कठोर और मस्त हैं….”

“चलो हटो….” मैंने उसके हाथ हटाये और छिटक कर दूर हट गई,”राहुल, ऐसे नहीं….शादी के बाद….”

“अरे सॉरी, पता नहीं मुझे क्या हो गया था।” उसने तुरन्त माफ़ी मांग ली और हम फिर से बिस्तर पर लेट कर टीवी देखने लगे। अचानक रहुल ने लेटे लेटे ही मुझे दबोच लिया और अपने होंठ मेरे होंठो से चिपका दिये
और मेरे ऊपर चढ़ गया। मैं मस्त हो उठी कि अपने आप लाईन पर आ गया। मेरा कुर्ता ऊपर उठा दिया और पजामे में खडा लण्ड मेरी चूत से चिपका दिया।

“राहुल….ये क्या…. हट जा…. देख मेरा कुर्ता ऊपर हो गया है।”

“मधु, पजामा भी मैंने उतार दिया है, बराबर हो गया ना।”

उसका नंगा लण्ड मेरी चूत से रगड़ खाने लगा। मैंने भी चूत को उभार कर उसके लण्ड को बुलावा दिया कि मैं तैयार हूँ।

“मधु, तुम सच में कुदरत की एक कला हो, ऐसा प्यारा जिस्म, प्यारे उभार, और तुम्हारी ये प्यारी सी मुनिया….”

कहते हुये उसने अपना लण्ड मेरी नई नवेली चूत कुंवारी चूत में घुसा डाला।

“मैया री…. मैं मर गई….धीरे से….” मुझे तेज दर्द हुआ। शायद मेरा कुंवारापन जाता रहा था। झिल्ली शायद फ़ट चुकी थी। उसके मुँह से भी एक हल्की कराह निकल गई। शायद राहुल के लन्ड की स्किन भी फ़ट गई
थी। पर जोश में लण्ड घुसता ही चला गया। हम दोनों ने एक दूसरे को समाहित कर लिया था। अब हम रुके रहे…. और अपने आप को कंट्रोल करते रहे। फिर धीरे से एक धक्का और लगाया। मैं फिर से चीख उठी।
उसने मुझे प्यार से निहारा और चूमने लगा।

“तुम मेरी जान हो मधु, मेरा प्यार हो, तुम्हरे बिना मैं जी नहीं सकता।”

“मेरे राजा, मेरे तुम ही सब कुछ हो, मुझे और प्यार करो, मुझे जन्नत में पहुंचा दो”

उसने अब धीरे धीरे मुझे चोदना चालू कर दिया। मेरी चूत भी का दर्द भी अब शनै: शनै: कम होने लगा। उसकी रफ़्तार बढ़ती गई। मैं अब सुख के सागर में गोते खाने लगी। मेरी कमर भी अब उछाल मार रही थी। लण्ड
पूरी गहराई तक मुझे चोद रहा था। जाने कब मैं सुख के सागर में बह गई और मेरी जवानी में उबाल आ गया, और यौवन रस छलक उठा, मेरी चूत भी उसके वीर्य से लबालब भर उठी। हम निढाल हो कर शिथिल पड़
गये।

पर कितनी देर तक पड़े रहते, कामदेव के तीर पर तीर चल रहे थे, जवानी ने फिर अन्गड़ाई ली और दूसरा दौर आरम्भ हो गया। फिर से हम एक दूसरे में समाने लगे, इस बार की चुदाई पहले से लम्बी और ज्यादा
सुखद थी।

रात भर जाने दौर चल चुके थे, सवेरे होते होते राहुल चला गया। मेरा मन शान्त था, गहरे समुंदर की तरह कोई हलचल नहीं थी। मैं गहरी नींद में डूबती चली गई।

आंख खुली तो दिन के ग्यारह बज रहे थे। चादर में लगा खून सूख चुका था। मेरे बदन में भी वीर्य और खून के सूखे निशान चिपक गये थे। मैं तुरन्त उठी पर जिस्म दुख रहा था, टूट रहा था, एकदम से मैं लड़खड़ा गई।
मैंने चादर बिस्तर पर से खींच ली और लेकर बाथ रूम में आ गई। मैं अच्छी तरह से नहाई और कपड़े साबुन के पानी में भिगा दिये।

माँ आ चुकी थी। मेरी नजरों की चोरी छुपाये नहीं छुप रही थी। मां की अनुभवी आंखों ने सब कुछ भांप लिया था। उस दिन तो वो कुछ नहीं बोली पर मैं समझ चुकी थी कि मां को शक हो गया है। मैंने रात को मां से
लिपट कर धीरे धीरे सब बात बता दी। मां को राहुल के बारे में जब पता चला तो उन्होंने चैन की सांस ली।

राहुल के पापा को मनाना मां के लिये सरल था क्योंकि माँ और उसके पिता का तो चुदाई का कार्यक्रम चलता रहता था।

हमारा सच्चा प्यार रंग लाया और सब कुछ ठीक हो गया। एक दिन शादी का समय भी आ गया। इस बीच राहुल और मैं कई बार चुदाई कर चुके थे यानी बहुत सी सुहाग रातें मना चुके थे। ठीक समय पर हमारे घर अब
एक लक्ष्मी ने जन्म लिया। हमारी अधूरी जिन्दगी पूर्ण हो गई।

कुवैत से राहुल को काम करने का एक सुनहरा अवसर आया। और कुछ समय के बाद वो कुवैत चला गया। उसकी अच्छी कमाई थी। मेरा घर भरने लगा पर मन खाली खाली रहने लगा। वो साल साल भर बाद आता
था। मेरी शरीर की आवश्यकताओं को भी नजर अन्दाज करने लगा, शायद पैसा ही अब उसके लिये सबकुछ हो गया था। अब मेरा मन भटकने लग गया था। राहुल के पिता अब रात भी माँ के साथ बिताने लगे थे। मैं
भी रात को लक्ष्मी के सोने के बाद उनकी चुदाई को कैसे ना कैसे करके चोरी से देखती थी, और रात भर तड़पती रहती थी। कभी कभी तो मैं खूब रोती और फिर ये सोच कर रह जाती कि राहुल ने मेरे लिये कितना
कुछ किया।

पर एक दिन ऐसा हुआ कि ……..

दिन को मैं अपने कमरे में आराम कर रही थी, एक झपकी लगी ही थी कि किसी ने मुझे दबोच लिया। सुखद आश्चर्य से मैंने आंखे नहीं खोली। शायद भगवान ने मेरी सुन ली थी। उसके हाथ मेरी स्तनों पर आ कर उसे
दबाने लगे। जिस्म रोमांच से भर उठा। ये रेगिस्थान में हरियाली कैसी? पर आंख खुलते ही मेरी चीख निकल पड़ी।

वो राहुल के पिता बाबू जी थे…. मात्र चड्डी में थे, उनका लण्ड फ़ुफ़कारें भर रहा था, उनकी आखे वासना में डूबी हुई थी….

मैंने उन्हे धकेलेते हुए कहा,”बाबू जी….ये क्या कर रहे है आप….!”

“भोसड़ी की, चूत सूख जायेगी, चुदवा ले….!”

मैं उनकी भाषा पर सन्न रह गई, ये क्या कह रहे हैं !

“बाबू जी, मैं तो आपकी बहू हूँ…. ऐसा ना करिये !” मैंने उनसे प्रार्थना की।

“साली हराम जादी, तेरी मां को चुदते हुए रोज देखती है, और छिनाल अपनी चूत को हाथ से घिसती है, बाबू जी मर गये थे क्या ?”

अब वो मेरा पेटीकोट खींच रहे थे। उन्होंने अपनी चड्डी उतार फ़ेंकी और मुझे चूमने लगे। उनका मोटा लौड़ा उछल कर बाहर आ गया। मेरी चूंचियाँ सहलाने और दबाने लगे। उनका लण्ड तो बहुत ही मोटा और लम्बा
था। मेरी वासना जागने लगी। लम्बे इन्तज़ार के बाद मेरी इच्छा के अनुसार ही ऐसा मस्त लण्ड मिल रहा। उसे हाथ में लेने की इच्छा प्रबल हो उठी। मैंने शरम छोड़ कर उनका लण्ड पकड़ लिया।

“ये हुई ना बात, मेरी जान, ले ले मेरा लौड़ा ले ले, चुदवाले भोसड़ी की….”

“बाबू जी मेरी भी गाली देने की इच्छा हो रही है, दूं क्या मादरचोद गाली तुझे ?”

“मेरी रण्डी, तेरी मां को चोदूं, दे मुझे दे गाली, हरामी, दे गाली, मजा आयेगा।”

“तो भेन चोद मार दे मेरी फ़ुद्दी को, साला मुस्टण्डा लौड़ा, घुसेड़ दे मेरी भोसड़ी में….” मुझे भी आज मौका मिल गया मन की भड़ास निकालने का। मुझे पता था इतना मोटा लण्ड मुझे मस्त करने वाला है। माँ की
किस्मत पर मैं जलने लगी कि इतने सोलिड लण्ड से चुदवाती रही और मुझे पूछा तक नहीं। मैं तो राहुल के दुबले पतले लण्ड से ही सन्तुष्ट थी, मेरी मां कितनी खुदगर्ज है चुदवाने के मामले में….।

मेरी चूत को देखते हुए बोले,“ हाय रे मेरी बेटी, इतनी सी मुनिया है रे तेरी तो….और पोंद इतने से?”

“बाबूजी, आज कल लडकियाँ इतनी ही नाजुक होती हैं” मेरी गाण्ड को टटोलते हुए अपना हाथ फ़ेरने लगे।

“मेरी लाडो, जरा गाण्ड तो मेरी तरफ़ कर, इसका भी मजा ले लूं जरा !”

मैं उल्टी हो कर घोड़ी जैसी हो गई और अपने चूतड़ पूरे उभार दिये। बाबू जी का लण्ड तन्ना उठा मेरी गोल गोल गाण्ड देख कर। उन्होंने पास पड़ी क्रीम उठाई और मेरी गाण्ड में भर दी।

“बाबू जी क्या कर रहे हो…. मेरी तो छोटी सी गाण्ड है, अच्छी है ना?”

“मस्त है रे, साली को मचकाने को मन कर रहा है।” और उन्होने अपनी एक अंगुली मेरी गाण्ड में डाल दी। हल्का सा मजा आया।

“हाय रे बाबू जी, मुझे अपनी लौंडी बना लो, अपने पास ही रख लो।”

“हाँ मेरी मधु रानी, तु बहुत ही सुन्दर है, तेरा हर अंग नाजुक है।”

“मुझे आपकी दासी बना लो, मुझे बस चोद डालो अपने मोटे लण्ड से, देखो चूत कितनी प्यासी हो रही है।”

“शाबाश बेटी…. ये हुई ना बात…. अब देख मैं तुझे कैसा मस्त करता हूं”

मेरी गाण्ड की दोनों गोलाईयों को वो सहलाने लगे और उनका मोटा लण्ड गाण्ड के छेद पर लग गया। मैं घबरा उठी, इतनी छोटी सी गाण्ड में इतना मोटा लण्ड। मेरी तो मां चुद जायेगी …. मैंने पीछे मुड़ के देखा,
बाबूजी का चेहरा वासना से लाल हो उठा था, उनका लण्ड गाण्ड देख कर कड़क उठा था। मैंने जल्दी से अपनी गाण्ड को उनके सामने से हटाने की कोशिश की पर उन्होंने अपने हाथों से मेरी कमर कस के थाम ली।
लण्ड का सुपाड़ा चिकनाई लगी गाण्ड के छेद पर आ टिका था। अब बाबू जी ने जोर लगाया तो लण्ड नीचे फ़िसल पड़ा।

“ बाबू जी…. ये नहीं करो, नहीं जायेगा।” पर दूसरी बार में मेरी गाण्ड के छेद को फ़ैलाते हुए सुपाड़ा अन्दर घुस पड़ा। मैं चीख पड़ी।

“अरे फ़ाड़ डाली रे मेरी गाण्ड, मादरचोद…. छोड मुझे, हाय रे बाबू जी !” बाबू जी का सुपाड़ा मेरी गाण्ड को चीरता हुआ गहराई नापने लगा।

“बिटिया, इतनी प्यारी पोन्द को मारी नह॥न, तो फिर क्या मजा आयेगा।”

“साले, हरामी, निकाल दे रे लण्ड को बाहर…. मेरी माँ को फोड़ जा कर ….” मुझे असीम दर्द होने लगा। भला हो चिकनाई का जो लण्ड को अन्दर बाहर करने में मदद कर रही थी।

“अब शान्त हो जा मोड़ी, गाण्ड तो मैं छोड़ूंगा नही…. चल भोसड़ी की और झुक जा….” मेरी पीठ को हाथ से दबा कर झुका दिया और लण्ड पेलने लगा। मैं चीखती रही…. उसका लौड़ा अब ठीक से गाण्ड में सेट हो
गया था और गाण्ड को चीरता हुआ मजा ले रहा था। मेरे आंसू निकल पड़े…. दर्द के मारे मैं लस्त हो गई। मुँह से आवाज तक निकलना बंद हो गई। मैं अपनी पोंद ऊपर उठाये अपने गाण्ड के छेद को जितना हो सके
ढीला करने की कोशिश करती रही ताकि दर्द कम हो। उनके धक्के बढ़ते गये…. मेरी चीखें हालांकि कम हो गई थी पर धक्के के साथ कराह निकल ही जाती थी।

“आज तो मस्तानी गाण्ड का मजा आ गया…. मोड़ी तेरी पोंद तो मजे की है…. देख दो दिन में इसे मेरे लौड़े की साईज़ का कर दूंगा।”

मुझे कुछ सुनाई नहीं दे रहा था। अचानक बाबू जी ने लौड़े का पूरा जोर मेरी ग़ाण्ड में लगा दिया और मैं फिर से एक बार चीख उठी…. बाबू जी का बदन का कसाव बढ गया और अचानक मुझे गाण्ड के अन्दर पानी
भरता सा लगा। बाबू जी ने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया और पिचकारी हवा में उछाल दी। ढेर सारा वीर्य लण्ड ने छोड़ दिया और मेरी पीठ पूरी चिकनी हो उठी। वीर्य गाण्ड के छेद में और पीठ पर फ़ैल गया था।
मुझे अत्यन्त सुखद प्रतीत हुआ कि इतने मोटे लण्ड से निजात मिली। मैं बिस्तर से लग गई और आंखे बंद कर ली और गहरी सांसें लेने लगी। बाबूजी ने चादर से ही अपना वीर्य साफ़ कर दिया।

“चुद गई मेरी बेटी…. मधु मजा आया ना?” मां ने कमरे में आते हुए कहा।

“हाँ मेरी बिटिया…. तेरी माँ ही ने मुझे तुझे चोदने के लिये कहा था, तेरी तड़प इससे सही नहीं जा रही थी।” बाबू जी ने रहस्य खोला। मैं चौंक उठी, पर मां ने मेरी भावनाओं का ख्याल रखा, मुझे बहुत अच्छा लगा।

” मां, आप मेरा कितना ध्यान रखती हैं …. पर देखो ना बाबू जी ने मेरे साथ क्या किया !” मैंने शिकयत की और अपनी पोंद दिखाई।

“अरे मादरचोद, मेरी बेटी की तो तूने गाण्ड मार दी, अपने मोटे लण्ड का ख्याल तो रखा होता….” माँ ने गुस्सा होते हुए कहा।

“मैं क्या करूँ, तेरी बेटी की पोंद इतनी मस्त थी कि उसे मारनी पड़ी, मेरा लौड़ा भी तो साला गाण्ड देख कर ऐसा भड़क उठता है कि बस….” बाबू जी ने अपनी मजबूरी जताई।

“साला कमीना, देख गाण्ड की क्या हालत कर दी है….”

“छोड़ ना मां, चाहे लगी हो, पर बाबू जी का लण्ड मस्त है…. अब तो मैं रोज ही चुदाऊंगी।” मैंने मां को समझाया। चाहे जो हो बाबू जी का लण्ड मस्त था, उसे मैं कैसे छोड़ती।

मां ने मुझे गले लगा लिया…. “मुझे भी तो इनके लण्ड का चस्का लगा हुआ है ना…. साला भरपूर चोदता है….मस्त कर देता है”

बाबू जी अपनी तारीफ़ सुन कए इतराये जा रहे थे…. और फिर उन्होने मां को दबोच लिया। और उसके ऊपर चढ़ गये।

रंडी, अब उठा ले अपनी टांग…. लौड़ा तैयार है….” मां कसमसाती रही पर चुदाई चालू हो गई थी। मां नीचे दबी हुई सिसकारियाँ भर रही थी, और बाबू जी चोदते रहे…….. पेलते रहे…. मां की चुदती रही, मैं मां को मस्त होते देखते रही।

ALSO READ:-

Print This Page

Related posts