Meri Gaun Ki Maami Ki Pyaas

Baat un dino kee hai jab main 20 varsh ka tha. Hamaara ghar do manjil ka bana hua hai, jisamen oopar kee manjil mein main, mere mammee-paapa aur mera chhota bhaee rahate the aur neeche kee manjil par aage ke do kamaron ko godaam ke roop mein kiraaye par de rakha tha aur peechhe ke do kamaron mein mere door ke rishte ke maama-maamee rahate the. Mere paapa aur maama ek hee kampanee mein kaam karate the jisakee poore desh mein kaee shaakhaen thee, is kaaran ve log jyaadaatar toor par hee rahate the Meri Gaun Ki Maami Ki Pyaas.
Meree mammee ek kushal grhanee hone ke saath-saath ek kushal samaaj-sevika bhee hain. Ghar ke kaam-kaaj nibataakar ve subah 10 baje se shaam 5 baje tak samaaj-seva mein vyast rahatee hain, chhota bhaee nevee mein kost-gaard kee trening ke lie vishaakhaapattanam gaya hua tha aur mein kolej mein bee.Kom. Antim varsh kee padhaee kar raha tha.
Ek din subah 8 baje main kolej jaane ke lie nikala aur bas pakadee, aadhe raaste mein yaad aaya ki laayabraree kee kitaab to maamee ne padhane ke lie lee thee, aaj vaapis karane kee aakhiree taareekh hai. Ghar jaakar kitaab lekar vaapis samay par kolej pahunch sakata hoon, yah sochakar raaste mein bas chhod dee aur vaapasee kee bas pakadakar ghar aa gaya.
Dahaleej paar karake jaise hee maamee ke kamare ke paas pahuncha to mujhe kuchh khusafusaane kee aavaajen sunaee dee. Main thithakakar ruk gaya aur dhyaan lagaakar sunane laga.
Maamee kisee se kah rahee thee- abhee tum parason hee to aaye the, itanee jaldee kaise?
Kisee aadamee kee aavaaj sunaee dee- meree jaan, aaj to tumhaare pitaajee yaani mere taoojee ne bheja hai ye saamaan lekar, aur sach kahoon ! Mere man bhee bahut kar raha tha. Kal shaam jab se taoojee ne bola ki shyaam kal ye saamaan urmila ko de aana. Tab se bas yahee man kar raha tha ki kab savera ho aur main ud kar tumhaare paas pahunchoon aur tumhaaree guddedaar choochiyon ko munh mein lekar choosoon aur apanee pyaas bujhaoon.
Maamee bolee- abhee parason hee to chod kar gae ho, itanee jaldee phir !
Shyaam bola- are jaalim ! Teree choot hai hee itanee pyaaree ! Agar mera bas chale to main to apana land har vakt isee mein daale pada rahoon !
Maamee aur shyaam kee baaten sunakar mainne andaaja laga liya tha ki ghar mein koee na hone sabase jyaada phaayada in logon ne hee uthaaya hai.
Main kuchh aur sochata, isase pahale maamee kee aavaaj sunaee dee- suno shyaam, aaj jara choosa-chaasee na karake jaldee karana, jeejee aaj jaldee vaapis ghar aaengee kyonki jeejaajee aur ye (maama) toor se aaj vaapis aane vaale hain.
Shyaam bola- meree raanee tum hukm to karo, tum jaise chaahogee vaise hee chudaee ka kaaryakram bana diya jaayega.
Mainne man mein thaan lee ki aaj to bloo philm ka laiv teleekaast dekh kar hee maanoonga. Main bina koee aahat kiye bagal vaalee khidakee ke paas chala gaya, vah thodee see khulee huee thee, shaayad un logo ko is baat ka ehasaas bhee nahin hoga ki koee bhee ghar par aa sakata hai, us jagah se andar ka sab saaf dikhaee pad raha tha.
Maamee kaale rang ke blauj peteekot mein thee, sir par tauliya lapeta hua shaayad abhee nahaakar aaee thee, tabhee yah shyaam aa gaya hoga. Shyaam khade-khade hee donon haathon se maamee kee choochiyon se khel raha tha.
Dheere-dheere usane maamee ke blauj ke huk kholakar use shareer se alag kar diya, maamee andar bra bhee kaale rang kee pahan rakhee thee usane use bhee utaar diya.
Is beech vah maamee ke shareer ko choomata bhee ja raha tha. Phir usane peteekot bhee utaar diya, maamee usake saamane bilakul nirvastr khadee thee.
Maamee ka maansal shareer 38-26-38 ka tha. Shyaam ne unhen pakadakar dheere se palang par litaaya aur fataafat se apane saare kapade utaar die. Phir usane maamee kee taangon ko chauda kiya, taangen chaudee hote hee usake munh se nikala, “kya baat hai jaaneman ! Aaj to tumane badee saphaee kar rakhee hai? Parason to yahaan par jangal uga hua tha.
Maamee bolee- aaj ye aane vaale hai na iseelie abhee-abhee saaf karake aaee hoon, kar kuchh nahin paate par saphaee pooree chaahie.
Shyaam bola- koee baat nahin meree jaan ! Ham to hai na tumhaaree seva mein ! Abhee tumhaaree khujalee mitaate hain !
Kahate hue apana munh choot par le gaya aur jeebh se maamee kee choot kee phaanko ka ras choosane laga. Is chusaee se maamee mast hone lagee aur kamar ko dheere-dheere oopar-neeche karane lagee.
Shyaam utha aur apane adh-khade land ko maamee kee choot par ghisane laga jisase usaka land ekadam se tait ho kar khada ho gaya. Usane jaldee se use choot ke muhaane par laga dhakka maara. Ek hee jhatake mein poora ka poora land maamee kee choot mein samaan gaya.
Maamee ne halakee see sitkaaree bharee, dheere-dheere vo bhee shyaam ke dhakkon ka javaab dhakkon se dene lagee.
15-20 dhakkon ke baad hee shyaam bola- meree raanee, ab main jhadane vaala hoon, sambhaalo !
Maamee bolee- aaja mere raaja ! Ek boond bhee baahar nahin nikalane doongee !
Itane mein shyaam ne aakharee jhataka maara aur past hokar maamee ke oopar hee let gaya. Philm kee samaapti hote-hote mera hathiyaar bhee paint mein tan kar khada ho gaya tha. Man to kar raha tha ki abhee andar jaoon aur shyaam ko hataakar main bhee jut jaoon par mainne vahaan se nikal lene mein hee bhalaee samajhee.
Ghar se nikal kar kolej gaya par vahaan par man nahin laga. Aankhon ke saamane vahee seen ghoom raha tha. Ant mein main ghar vaapis aaya, dekha ki maamee ne kapade badal lie the. Ab vo hare rang kee sari pahane hue thee, mammee bhee ghar mein hee thee.
Main chupachaap oopar chadha aur apane kamare kee or chal diya. Mammee rasoee mein kuchh bana rahee thee, ekadam palatee to mujhe dekhakar bolee- are sanjoo kya hua ? Too jaldee kaise aa gaya, abhee to 2 hee baje hain?
Main bola- kuchh nahin mammee ! Ek to profesar nahin aaye the aur mujhe bhee kuchh kamajoree see mahasoos ho rahee thee. Raat ko der tak padha tha na, main tere lie chaay banaakar laatee hoon.
Chaay peekar main let gaya, aankhe band karate hee phir vahee seen meree aankhon ke aage tairane lage. Aankh lagane hee ja rahee thee ki mammee kee aavaaj sunaee dee- urmila !(meree mammee maama se kaaphee badhee thee isee kaaran vo maamee ko unake naam se hee bulaatee thee) main jara baahar ja rahee hoon, 5 baje tak aa jaungee, sanjoo kee tabiyat theek nahin hai tum jara usake paas hee baithana.
Maamee bolee- achchha jeejee.
Yah sab sunate hee mere man ka shaitaan jag utha. Yahee mauka hai maamee ko set karane ka.
Mainne fauran kapade utaare, sirph lungee baniyaan mein palang par let gaya. Thodee der mein maamee aa gaee, bolee- kya hua sanjoo?
Main bola- kuchh nahin maamee, sir bada dard kar raha hai aur shareer bhee toot raha hai.
Maamee sirahaane par baithatee huee bolee- aa main tera sir daba detee hoon.
Kahate hue unhonne mera sir apanee godee mein rakh liya aur saharaane lagee kuchh der baad hee mainne dheere se ek haath uthaakar unakee gardan par rakh diya. Meree kohanee unakee choochiyon se takara rahee thee, unhonne kuchh nahin kaha, meree himmat badhee, mainne haath dheere-dheere saraka kar unakee choochiyon par tika diya aur andaaje se unake nippal ko masal diya.
Vo shaayad sote se jaagee, mera haath hataate hue bolee- kya kar rahe ho sanjoo? Bahut badatameej ho gae ho aane do tumhaaree mammee ko unhen bataungee.
Ek baar to main dar gaya, lekin ekadam se himmat karake bola- tum kya bataogee aaj to main hee tumhaare aur shyaam ke beech mein pakane vaalee khichadee ka pardaaphaash kar doonga, mainne subah sab dekha aur suna th.
Yah sunakar maamee ke hosh ud gae, vo dham se palang par baith gaee. Mainne apana teer nishaane par lagata dekha, paas jaakar bola- yadi tum mujhe khush kar dogee to main mammee ko ya kisee aur ko kuchh nahin bataoonga!
Maamee meree baat pata nahin sun rahee thee ya nahin, vo to ekadam se nirjeev hokar baithee huee thee, mere sir par to shaitaan savaar tha, mainne us baat ko maun sveekrti samajh unakee chuchiyon se khelana shuroo kar diya, blauj ke huk kholakar bra oopar uthaakar mainne choochiyon ko choosana shuroo kar diya. Phir dheere se mainne unake shareer se saare kapade utaar die, unhonne kapade utaarane mein mera saath saath diya ek chaabee vaalee gudiya kee tarah.
Mainne unhen seedha lita diya aur shyaam kee tarah unakee choot chaatane laga. Shuroo mein to bada ajeeb laga par dheere-dheere svaad aane laga. Is beech mera land tanakar khada ho gaya tha. Mainne land ko unakee choot par tikaaya aur dhakka maar diya.
Mera land shyaam kee apeksha jyaada mota aur lamba tha, ek baar mein aadha hee ja paaya. Maamee seetkaar uthee par chupachaap letee rahee. Main apanee dhun mein dhakke lagaata raha, pahalee baar seks ka maja loot raha tha, vo bhee ekatarapha.
20-25 dhakko mein hee main jhad gaya aur land ko andar daale hue hee leta raha. Paanch minat baad utha aur baatharoom mein jaakar saphaee karane laga. Baahar aaya to dekha maamee chupachaap kapade pahan rahee thee, main palang par jaakar let gaya. Maamee kapade pahan kar vaheen palang par baith gaee. Main kaaphee thak chuka tha meree aankh lag gaee.
Shaam ko 6 baje meree aankh khulee, mammee aa chukee thee mujhe dekh kar bolee- ab kaisee tabiyat hai?
Main bola- ab theek hai !
Raat ko 9 baje paapa aur maama toor se laut aaye. Agale din ravivaar tha, sab ghar par hee the. Main neeche gaya to maama baahar baithe akhabaar padh rahe the aur maamee rasoee mein kuchh bana rahee thee.
Aaj vo bahut khush dikhaee de rahee thee. Mainne paas jaakar dheere se unakee choochiyon ko masal diya, vo kuchh nahin bolee, bas chupachaap apane kaam mein lagee rahee. Us din ke baad mujhe jab mauka milata- main kabhee unakee choochiyon ko, kabhee gaalon ko masal deta tha par vo kuchh bhee nahin kahatee thee.
Haphte bhar baad shanivaar ko subah mammee-paapa ko eta ek shaadee mein jaana tha, maama ek din pahale hee toor par chale gae the. Main kolej gaya aur dopahar ko 2 baje ghar lauta. Ghar aakar dekha maamee ne phirojee rang kee sari pahan rakhee thee, halka sa mek-ap bhee kar rakha tha, mujhe dekhate hee bolee- aa gae sanjoo ! Chalo haath munh dholo, saath baithakar khaana khaayenge.
Main unake badale hue roop ko dekh kar chakit rah gaya kyonki jabase mainne unakee chudaee kee thee tabase vo mujhase baat nahin karatee thee. Main phresh ho kar neeche aaya to dekha ki khaana bhee meree pasand ka tha.
Hamane khaana shuroo kiya, maamee bolee- dekho sanjoo bura mat maanana ! Tumhaare maama mujhe trpt nahin kar paate iseelie main shyaam se chudaee karavaatee thee par us din chaahe tumane mujhe jabaradastee choda par mujhe tumhaara lamba aur mota land bahut pasand aaya aur us din ke baad tum jab marjee mujhe chhedakar chale jaate the, main tadaph kar rah jaatee thee, ab do din tak main tumhaaree hoon tum chaahe jaise marjee mujhe chod sakate ho !
Is beech khaana poora ho chuka, main uthate hue bola- phir der kis baat kee? Chalo ek shipht to abhee laga lete hain !
Maamee bolee theek hai, tum baahar vaale daravaaje ka kunda laga kar aao, main bhee ye saaf karake aatee hoon.
Main fataafat kunda laga kar kamare mein aa gaya, itane mein maamee bhee aa gaee. Dekhate hee mainne unako apanee baanhon mein jakad liya, vo bhee mujhase lipat gaee. Dheere-dheere mainne unake aur unhonne mere kapade utaarane shuroo kar die. Usake baad main lekar palang par aa gaya, ham log 69 kee avastha mein let gae.
Main unakee choot ko kheer kee katoree samajh kar chaatane laga. Unhonne mere land ko loleepop kee tarah choosana shuroo kar diya. Maamee mere land ko choosatee ja rahee thee aur kahatee ja rahee thee “chooso jor se chooso, kha jao”
Kaaphee der tak yahee chalata raha. Maamee kee choot ne paanee chhod diya jise main chaat gaya. Itane mein mujhe laga ki main jhadane vaala hoon jab tak kuchh kahata mere land ne paanee chhod diya. Maamee saare ras ko shahad samajh kar chaat gaee.

Usake baad hamane do dinon tak 8 se 10 baar chudaee kee. Usake baad bhee jab mauka lagata ham log apanee pyaas bujha lete the.

Meri Gaun Ki Maami Ki Pyaas

बात उन दिनों की है जब मैं 20 वर्ष का था। हमारा घर दो मंजिल का बना हुआ है, जिसमें ऊपर की मंजिल में मैं, मेरे मम्मी-पापा और मेरा छोटा भाई रहते थे और नीचे की मंजिल पर आगे के दो कमरों को गोदाम के रूप में किराये पर दे रखा था और पीछे के दो कमरों में मेरे दूर के रिश्ते के मामा-मामी रहते थे। मेरे पापा और मामा एक ही कंपनी में काम करते थे जिसकी पूरे देश में कई शाखाएँ थी, इस कारण वे लोग ज्यादातर टूर पर ही रहते थे।

मेरी मम्मी एक कुशल गृहणी होने के साथ-साथ एक कुशल समाज-सेविका भी हैं। घर के काम-काज निबटाकर वे सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक समाज-सेवा में व्यस्त रहती हैं, छोटा भाई नेवी में कोस्ट-गार्ड की ट्रेनिंग के लिए विशाखापत्तनम गया हुआ था और में कॉलेज में बी.कॉम. अन्तिम वर्ष की पढ़ाई कर रहा था।

एक दिन सुबह ८ बजे मैं कॉलेज जाने के लिए निकला और बस पकड़ी, आधे रास्ते में याद आया कि लायब्ररी की किताब तो मामी ने पढ़ने के लिए ली थी, आज वापिस करने की आखिरी तारीख है। घर जाकर किताब लेकर वापिस समय पर कॉलेज पहुँच सकता हूँ, यह सोचकर रास्ते में बस छोड़ दी और वापसी की बस पकड़कर घर आ गया।

दहलीज पार करके जैसे ही मामी के कमरे के पास पहुंचा तो मुझे कुछ खुसफ़ुसाने की आवाजें सुनाई दी। मैं ठिठककर रुक गया और ध्यान लगाकर सुनने लगा।

मामी किसी से कह रही थी- अभी तुम परसों ही तो आये थे, इतनी जल्दी कैसे?

किसी आदमी की आवाज सुनाई दी- मेरी जान, आज तो तुम्हारे पिताजी यानि मेरे ताऊजी ने भेजा है ये सामान लेकर, और सच कहूँ ! मेरे मन भी बहुत कर रहा था। कल शाम जब से ताऊजी ने बोला कि श्याम कल ये सामान उर्मिला को दे आना। तब से बस यही मन कर रहा था कि कब सवेरा हो और मैं उड़ कर तुम्हारे पास पहुंचूं और तुम्हारी गुद्देदार चूचियों को मुंह में लेकर चूसूँ और अपनी प्यास बुझाऊँ।

मामी बोली- अभी परसों ही तो चोद कर गए हो, इतनी जल्दी फिर !

श्याम बोला- अरे जालिम ! तेरी चूत है ही इतनी प्यारी ! अगर मेरा बस चले तो मैं तो अपना लंड हर वक्त इसी में डाले पड़ा रहूँ !

मामी और श्याम की बातें सुनकर मैंने अंदाजा लगा लिया था कि घर में कोई न होने सबसे ज्यादा फायदा इन लोगों ने ही उठाया है।

मैं कुछ और सोचता, इससे पहले मामी की आवाज सुनाई दी- सुनो श्याम, आज जरा चूसा-चासी न करके जल्दी करना, जीजी आज जल्दी वापिस घर आएँगी क्योंकि जीजाजी और ये (मामा) टूर से आज वापिस आने वाले हैं।

श्याम बोला- मेरी रानी तुम हुक्म तो करो, तुम जैसे चाहोगी वैसे ही चुदाई का कार्यक्रम बना दिया जायेगा।

मैंने मन में ठान ली कि आज तो ब्लू फिल्म का लाइव टेलीकास्ट देख कर ही मानूंगा। मैं बिना कोई आहट किये बगल वाली खिड़की के पास चला गया, वह थोड़ी सी खुली हुई थी, शायद उन लोगो को इस बात का एहसास भी नहीं होगा कि कोई भी घर पर आ सकता है, उस जगह से अन्दर का सब साफ़ दिखाई पड़ रहा था।

मामी काले रंग के ब्लाउज पेटीकोट में थी, सिर पर तौलिया लपेटा हुआ शायद अभी नहाकर आई थी, तभी यह श्याम आ गया होगा। श्याम खड़े-खड़े ही दोनों हाथों से मामी की चूचियों से खेल रहा था।

धीरे-धीरे उसने मामी के ब्लाउज के हुक खोलकर उसे शरीर से अलग कर दिया, मामी अन्दर ब्रा भी काले रंग की पहन रखी थी उसने उसे भी उतार दिया।
इस बीच वह मामी के शरीर को चूमता भी जा रहा था। फिर उसने पेटीकोट भी उतार दिया, मामी उसके सामने बिलकुल निर्वस्त्र खड़ी थी।

मामी का मांसल शरीर ३८-२६-३८ का था। श्याम ने उन्हें पकड़कर धीरे से पलंग पर लिटाया और फ़टाफ़ट से अपने सारे कपड़े उतार दिए। फिर उसने मामी की टांगों को चौड़ा किया, टाँगें चौड़ी होते ही उसके मुंह से निकला, “क्या बात है जानेमन ! आज तो तुमने बड़ी सफाई कर रखी है? परसों तो यहाँ पर जंगल उगा हुआ था।

मामी बोली- आज ये आने वाले है न इसीलिए अभी-अभी साफ़ करके आई हूँ, कर कुछ नहीं पाते पर सफाई पूरी चाहिए।

श्याम बोला- कोई बात नहीं मेरी जान ! हम तो है न तुम्हारी सेवा में ! अभी तुम्हारी खुजली मिटाते हैं !

कहते हुए अपना मुंह चूत पर ले गया और जीभ से मामी की चूत की फांको का रस चूसने लगा। इस चुसाई से मामी मस्त होने लगी और कमर को धीरे-धीरे ऊपर-नीचे करने लगी।
श्याम उठा और अपने अध-खड़े लंड को मामी की चूत पर घिसने लगा जिससे उसका लंड एकदम से टाइट हो कर खड़ा हो गया। उसने जल्दी से उसे चूत के मुहाने पर लगा धक्का मारा। एक ही झटके में पूरा का पूरा लंड मामी की चूत में समां गया।

मामी ने हलकी सी सित्कारी भरी, धीरे-धीरे वो भी श्याम के धक्कों का जवाब धक्कों से देने लगी।

15-20 धक्कों के बाद ही श्याम बोला- मेरी रानी, अब मैं झड़ने वाला हूँ, संभालो !

मामी बोली- आजा मेरे राजा ! एक बूँद भी बाहर नहीं निकलने दूँगी !

इतने में श्याम ने आखरी झटका मारा और पस्त होकर मामी के ऊपर ही लेट गया। फिल्म की समाप्ति होते-होते मेरा हथियार भी पैन्ट में तन कर खड़ा हो गया था। मन तो कर रहा था कि अभी अन्दर जाऊँ और श्याम को हटाकर मैं भी जुट जाऊं पर मैंने वहां से निकल लेने में ही भलाई समझी।

घर से निकल कर कॉलेज गया पर वहाँ पर मन नहीं लगा। आँखों के सामने वही सीन घूम रहा था। अंत में मैं घर वापिस आया, देखा कि मामी ने कपड़े बदल लिए थे। अब वो हरे रंग की साड़ी पहने हुए थी, मम्मी भी घर में ही थी।

मैं चुपचाप ऊपर चढ़ा और अपने कमरे की ओर चल दिया। मम्मी रसोई में कुछ बना रही थी, एकदम पलटी तो मुझे देखकर बोली- अरे संजू क्या हुआ ? तू जल्दी कैसे आ गया, अभी तो २ ही बजे हैं?

मैं बोला- कुछ नहीं मम्मी ! एक तो प्रोफ़ेसर नहीं आये थे और मुझे भी कुछ कमजोरी सी महसूस हो रही थी। रात को देर तक पढ़ा था ना, मैं तेरे लिए चाय बनाकर लाती हूँ।

चाय पीकर मैं लेट गया, आँखे बंद करते ही फिर वही सीन मेरी आँखों के आगे तैरने लगे। आँख लगने ही जा रही थी कि मम्मी की आवाज सुनाई दी- उर्मिला !(मेरी मम्मी मामा से काफी बढ़ी थी इसी कारण वो मामी को उनके नाम से ही बुलाती थी) मैं जरा बाहर जा रही हूँ, ५ बजे तक आ जाउंगी, संजू की तबियत ठीक नहीं है तुम जरा उसके पास ही बैठना।

मामी बोली- अच्छा जीजी।

यह सब सुनते ही मेरे मन का शैतान जग उठा। यही मौका है मामी को सेट करने का।

मैंने फ़ौरन कपडे उतारे, सिर्फ लुंगी बनियान में पलंग पर लेट गया। थोड़ी देर में मामी आ गई, बोली- क्या हुआ संजू?

मैं बोला- कुछ नहीं मामी, सिर बड़ा दर्द कर रहा है और शरीर भी टूट रहा है।

मामी सिरहाने पर बैठती हुई बोली- आ मैं तेरा सिर दबा देती हूँ।

कहते हुए उन्होंने मेरा सिर अपनी गोदी में रख लिया और सहराने लगी कुछ देर बाद ही मैंने धीरे से एक हाथ उठाकर उनकी गर्दन पर रख दिया। मेरी कोहनी उनकी चूचियों से टकरा रही थी, उन्होंने कुछ नहीं कहा, मेरी हिम्मत बढ़ी, मैंने हाथ धीरे-धीरे सरका कर उनकी चूचियों पर टिका दिया और अंदाजे से उनके निप्पल को मसल दिया।

वो शायद सोते से जागी, मेरा हाथ हटाते हुए बोली- क्या कर रहे हो संजू? बहुत बदतमीज हो गए हो आने दो तुम्हारी मम्मी को उन्हें बताउंगी।

एक बार तो मैं डर गया, लेकिन एकदम से हिम्मत करके बोला- तुम क्या बताओगी आज तो मैं ही तुम्हारे और श्याम के बीच में पकने वाली खिचड़ी का पर्दाफाश कर दूंगा, मैंने सुबह सब देखा और सुना थ।

यह सुनकर मामी के होश उड़ गए, वो धम से पलंग पर बैठ गई। मैंने अपना तीर निशाने पर लगता देखा, पास जाकर बोला- यदि तुम मुझे खुश कर दोगी तो मैं मम्मी को या किसी और को कुछ नहीं बताऊंगा!

मामी मेरी बात पता नहीं सुन रही थी या नहीं, वो तो एकदम से निर्जीव होकर बैठी हुई थी, मेरे सिर पर तो शैतान सवार था, मैंने उस बात को मौन स्वीकृति समझ उनकी चुचियों से खेलना शुरू कर दिया, ब्लाउज के हुक खोलकर ब्रा ऊपर उठाकर मैंने चूचियों को चूसना शुरू कर दिया। फिर धीरे से मैंने उनके शरीर से सारे कपड़े उतार दिए, उन्होंने कपड़े उतारने में मेरा साथ साथ दिया एक चाबी वाली गुडिया की तरह।

मैंने उन्हें सीधा लिटा दिया और श्याम की तरह उनकी चूत चाटने लगा। शुरू में तो बड़ा अजीब लगा पर धीरे-धीरे स्वाद आने लगा। इस बीच मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया था। मैंने लंड को उनकी चूत पर टिकाया और धक्का मार दिया।

मेरा लंड श्याम की अपेक्षा ज्यादा मोटा और लम्बा था, एक बार में आधा ही जा पाया। मामी सीत्कार उठी पर चुपचाप लेटी रही। मैं अपनी धुन में धक्के लगाता रहा, पहली बार सेक्स का मजा लूट रहा था, वो भी एकतरफा।

20-25 धक्को में ही मैं झड़ गया और लंड को अन्दर डाले हुए ही लेटा रहा। पांच मिनट बाद उठा और बाथरूम में जाकर सफाई करने लगा। बाहर आया तो देखा मामी चुपचाप कपड़े पहन रही थी, मैं पलंग पर जाकर लेट गया। मामी कपड़े पहन कर वहीं पलंग पर बैठ गई। मैं काफी थक चुका था मेरी आँख लग गई।

शाम को ६ बजे मेरी आँख खुली, मम्मी आ चुकी थी मुझे देख कर बोली- अब कैसी तबियत है?

मैं बोला- अब ठीक है !

रात को ९ बजे पापा और मामा टूर से लौट आये। अगले दिन रविवार था, सब घर पर ही थे। मैं नीचे गया तो मामा बाहर बैठे अखबार पढ़ रहे थे और मामी रसोई में कुछ बना रही थी।

आज वो बहुत खुश दिखाई दे रही थी। मैंने पास जाकर धीरे से उनकी चूचियों को मसल दिया, वो कुछ नहीं बोली, बस चुपचाप अपने काम में लगी रही। उस दिन के बाद मुझे जब मौका मिलता- मैं कभी उनकी चूचियों को, कभी गालों को मसल देता था पर वो कुछ भी नहीं कहती थी।

हफ्ते भर बाद शनिवार को सुबह मम्मी-पापा को एटा एक शादी में जाना था, मामा एक दिन पहले ही टूर पर चले गए थे। मैं कॉलेज गया और दोपहर को 2 बजे घर लौटा। घर आकर देखा मामी ने फिरोजी रंग की साड़ी पहन रखी थी, हल्का सा मेक-अप भी कर रखा था, मुझे देखते ही बोली- आ गए संजू ! चलो हाथ मुंह धोलो, साथ बैठकर खाना खायेंगे।

मैं उनके बदले हुए रूप को देख कर चकित रह गया क्योंकि जबसे मैंने उनकी चुदाई की थी तबसे वो मुझसे बात नहीं करती थी। मैं फ्रेश हो कर नीचे आया तो देखा कि खाना भी मेरी पसंद का था।

हमने खाना शुरू किया, मामी बोली- देखो संजू बुरा मत मानना ! तुम्हारे मामा मुझे तृप्त नहीं कर पाते इसीलिए मैं श्याम से चुदाई करवाती थी पर उस दिन चाहे तुमने मुझे जबरदस्ती चोदा पर मुझे तुम्हारा लम्बा और मोटा लंड बहुत पसंद आया और उस दिन के बाद तुम जब मर्जी मुझे छेड़कर चले जाते थे, मैं तड़फ कर रह जाती थी, अब दो दिन तक मैं तुम्हारी हूँ तुम चाहे जैसे मर्जी मुझे चोद सकते हो !

इस बीच खाना पूरा हो चुका, मैं उठते हुए बोला- फिर देर किस बात की? चलो एक शिफ्ट तो अभी लगा लेते हैं !

मामी बोली ठीक है, तुम बाहर वाले दरवाजे का कुंडा लगा कर आओ, मैं भी ये साफ़ करके आती हूँ।

मैं फ़टाफ़ट कुंडा लगा कर कमरे में आ गया, इतने में मामी भी आ गई। देखते ही मैंने उनको अपनी बाँहों में जकड़ लिया, वो भी मुझसे लिपट गई। धीरे-धीरे मैंने उनके और उन्होंने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए। उसके बाद मैं लेकर पलंग पर आ गया, हम लोग 69 की अवस्था में लेट गए।

मैं उनकी चूत को खीर की कटोरी समझ कर चाटने लगा। उन्होंने मेरे लंड को लॉलीपोप की तरह चूसना शुरू कर दिया। मामी मेरे लंड को चूसती जा रही थी और कहती जा रही थी “चूसो जोर से चूसो, खा जाओ”

काफी देर तक यही चलता रहा। मामी की चूत ने पानी छोड़ दिया जिसे मैं चाट गया। इतने में मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ जब तक कुछ कहता मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया। मामी सारे रस को शहद समझ कर चाट गई।

उसके बाद हमने दो दिनों तक 8 से 10 बार चुदाई की। उसके बाद भी जब मौका लगता हम लोग अपनी प्यास बुझा लेते थे।

READ ALSO:-

Print This Page

Related posts