DESI MAUSI KI BADI BAHU KI CHUDAI

हैल्लो दोस्तों, में दिल्ली में बचपन से रह रहा हूँ। मुझे शादीशुदा लेडीस ज्यादा पसंद है और मोटी लेडीस भी बहुत पसंद है। ये स्टोरी मेरी और मेरी MAUSI की बड़ी बहु के बीच की है। मेरी MAUSI की बड़ी बहु का नाम रजनी है और उनकी उम्र 43 के आस पास है, लेकिन वो दिखने में लगती नहीं है। ये कहानी साल 2013 की है, BHABHI के दो बच्चे है जो स्कूल जाते है और भैया प्राइवेट कंपनी में जॉब करते है। मेरी MAUSI हमारे घर के पास ही रहती थी। में हमेशा उनके घर जाता था।

में इस साल भी न्यू ईयर पर उनके घर गया तो MAUSI को विश करने के बाद में सीधा BHABHI के फ्लोर पर चला गया। जब में गया तो BHABHI कपड़े प्रेस कर रही थी। मैंने BHABHI को हैल्लो किया और न्यू ईयर विश किया। BHABHI ने भी मुझे न्यू ईयर विश किया। मैंने मज़ाक में BHABHI से बोल दिया कि BHABHI पंजाबियों में क़िसी भी चीज़ को ऐसे विश नहीं करते तो BHABHI अचानक से मेरे पास आई और मुझे गले लगाकर बोली ऐसे विश करते है।

फिर जैसे ही BHABHI ने मुझे गले लगाया तो उनके शरीर का स्पर्श पाकर में दो मिनट के लिए सन्न रह गया। फिर BHABHI जाकर कपड़े प्रेस करने लगी और मुझे बोलने लगी कि क्या हुआ? तो में बोला BHABHI मेरा दिल ज़ोर-ज़ोर से धक-धक कर रहा है। BHABHI बोली कि कभी क़िसी को गले नहीं लगाया क्या? तो में बोला नहीं मैंने कभी क़िसी को गले नहीं लगाया। मैंने BHABHI से बोला कि मेरी छाती पर हाथ रखकर देखो कितनी ज़ोर-ज़ोर से धक-धक कर रहा है। तो BHABHI ने हाथ रखा और बोली तेरा तो सही में बड़ी ज़ोर-ज़ोर से दिल धक-धक कर रहा है। मैंने BHABHI से बोला कि BHABHI क्या में आपको दुबारा गले लगा सकता हूँ?

DESI MAUSI

BHABHI ने दुबारा मुझे गले लगाया तो मैंने भी उनको जवाब में गले लगा लिया और उनको कमर से पकड़कर जकड़ में ले लिया। अब मेरा तो हाल बुरा हो रहा था और मेरा LUND भी खड़ा हो रहा था, जिसका शायद BHABHI को पता लगने लगा था। BHABHI बोली अब छोड़ दे तो मैंने उन्हें छोड़ दिया। फिर हम बात करने लगे और BHABHI कपड़े प्रेस करने लगी। फिर बातों-बातों में मैंने फिर से उनको पीछे से गले लगा लिया, जिसकी वजह से मेरा LUND BHABHI की GAND में दबने लगा। BHABHI बोली कि क्या हुआ? तो में बोला BHABHI बड़ा अच्छा लग रहा है और मन कर रहा है कि में आपको ऐसे ही गले लगाये रखूं। फिर BHABHI ने भी कोई जवाब नहीं दिया और में ऐसे ही गले लग कर खड़ा रहा।

फिर BHABHI ने मुझे हटाया और फिर हम बात करने लगे और थोड़ी देर के बाद में चला गया। फिर में नॉर्मली उनके घर आने जाने लगा और BHABHI को गले मिलकर मिलता। फिर एक दिन BHABHI ने मुझे फोन किया कि बच्चों का होमवर्क निकालकर ला दे। BHABHI ने फोन पर लिखवा दिया और में फिर होमवर्क निकाल कर सीधा उनके घर दोपहर को 12 बजे गया, जब भैया भी घर नहीं होते और बच्चे भी स्कूल गये होते है। में जैसे ही घर गया तो मैंने MAUSI को नमस्ते करके उनका हाल चाल पूछा और फिर पूछा कि BHABHI कहाँ है? बच्चों का होमवर्क देना है तो MAUSI बोली ऊपर है, ऊपर ही चला जा।

मेरी MAUSI को घुटनो की प्रोब्लम है इसलिए वो ऊपर नहीं चढ़ सकती। फिर में जैसे ही ऊपर गया तो BHABHI किचन में चाय बना रही थी। BHABHI ने पीले कलर का सूट पहना था जिसमें वो एकदम मस्त लग रही थी। फिर मैंने BHABHI से बोला में बच्चों का होमवर्क ले आया हूँ तो BHABHI बोली वही टेबल पर रख दे। फिर मैंने टेबल पर पेपर रखकर सीधा BHABHI के पास किचन में चला गया और BHABHI को पीछे से हग करके खड़ा हो गया तो BHABHI बोली क्या कर रहा है? तो में बोला कि गले मिल रहा हूँ। फिर वो कुछ नहीं बोली।

फिर मैंने बोला कि आपने बड़ी अच्छी खुशबू लगाई है तो में अपने मुँह को BHABHI के कान के पास ले जाकर सूंघने लगा। तो BHABHI बोली क्या कर रहा है? तो में बोला करने दो ना अच्छा लग रहा है, फिर धीरे- धीरे में BHABHI के कान पर किस करने लगा और मेरा LUND BHABHI की GAND में टच होने लगा और अपने दोनों हाथों को में BHABHI के पेट पर घुमाने लगा। अब BHABHI ने अपनी आँखें बंद कर दी और मेरे दोनों हाथों को अपने पेट पर दबाने लगी। फिर धीरे-धीरे मैंने BHABHI से पूछा कि BHABHI तुमको छूने का दिल कर रहा है तो BHABHI बोली छू तो रहे हो।

फिर में बोला BHABHI आपकी पूरी बॉडी को छूने का दिल कर रहा है, क्या में छु लूँ? तो BHABHI ने कुछ नहीं बोला। फिर मैंने उनको किचन की दीवार के साथ घुमा कर खड़ा कर दिया तो उनका चेहरा मेरी तरफ आ गया और उनके गालो के पास जाकर किस कर दिया, BHABHI सिसकियां लेने लगी। फिर मैंने हिम्मत करके अपने होठों को BHABHI के होठों के पास रख दिया और लिप किस करने लगा।

MAUSI KE SATH

 

फिर मैंने धीरे-धीरे अपना एक हाथ BHABHI के BOOBS पर रख दिया और दबाने लगा तो BHABHI कम आवाज़ में बोली कि मत कर कोई आ जायेगा। में बोला कि BHABHI बस थोड़ी देर करने दो, कोई नहीं आयेगा। फिर में अपने एक हाथ को उनके सूट के अंदर डालकर उनकी कमर को सहलाने लगा। उनकी बॉडी के स्पर्श को जब मैंने महसूस किया था, क्या मस्त कमर थी? फिर में कमर को सहलाता रहा और किस करता रहा। अब BHABHI भी मेरा साथ देने लगी और में अपने LUND का दबाव उनकी CHUT पर दबाता रहा। फिर मैंने उनके होठों को छोड़कर दोनों हाथ से उनके सूट को ऊपर उठा दिया।

फिर जैसे ही मैंने सूट उठाया तो में सन्न हो गया। अब मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे सफ़ेद चादर पर कोई काली फुटबॉल हो। उन्होंने काले कलर की ब्रा पहनी हुई थी तो में ब्रा के ऊपर से ही उनके BOOBS दबाने लगा। फिर मैंने ब्रा ऊपर खिसका दी और पागलों की तरह BOOBS चूसने लगा और BHABHI मेरे सिर पर हाथ फैरने लगी और BHABHI का सूट मेरे ऊपर आ गिरा और में BHABHI के सूट के अंदर BOOBS सक करने लगा। फिर मुझे BHABHI के सलवार का NADA नज़र आया और मैंने BHABHI का NADA एक झटके में ऊतार कर खोल दिया, जिससे उनकी सलवार खुल गई और अब मुझे BHABHI की गोरी-गोरी जांघे और जांघो के बीच में लाल कलर की पेंटी में उनकी CHUT के शेप नज़र आ रही थी।

फिर में एकदम से खड़ा हुआ और BHABHI को पकड़कर रूम में ले गया और उस फ्लोर वाले गेट को लॉक कर दिया। फिर मैंने BHABHI को जाते ही बेड पर लेटा दिया और उनका सूट ऊपर करके पागलों की तरह BOOBS चूसने लगा और सक करते-करते में अपने एक हाथ को उसकी पेंटी के अंदर डालकर उसके गोरे-गोरे और मुलायम कूल्हों को सहलाने लग गया।

फिर मैंने उनको दबोच लिया और एक हाथ से उसके निप्पल को मसलने लगा, तो उसकी सिसकियां निकलने लगी। फिर मैंने एक झटके से उसकी पेंटी को ऊतार कर उसको बेड पर लेटा दिया और मैंने भी जल्दी से सिर्फ़ अपनी पेंट और अंडरवियर उतार दिया। अब BHABHI ने झट से खड़ी होकर मेरे LUND को पकड़कर चूसना शुरू कर दिया। मैंने लाईफ में कभी ऐसा अनुभव नहीं किया था। अब में जन्नत जैसा महसूस कर रहा था। अब वो मेरे LUND को चूसती रही और में उसके BOOBS को कभी सहलाने लगता तो कभी निप्पल पर काट देता। फिर उसने मुझे नीचे लेटा दिया और खुद मेरे ऊपर इस तरह से आ गयी जिसके कारण उसकी CHUT जो कि बिना बालों की थी वो ठीक मेरे मुँह के पास थी। फिर में भी उसकी CHUT में उंगली डालकर चाटने लगा। उसकी GAND का छेद भी गुलाबी कलर का था। अब में बीच-बीच में उसमें भी उंगली डाल देता जिसके कारण वो एकदम चिल्ला पड़ती। फिर थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद मैंने उसको नीचे लेटा दिया।

फिर उसकी टांगो को अपने कंधो पर रखकर मैंने अपना LUND उसकी GAND के छेद पर रखा और हल्का सा धक्का लगाया। मेरे LUND का सुपाड़ा उसके अंदर चला गया। जिसके कारण वो चिल्ला उठी तो में रुक गया और उसके BOOBS को दबाने लगा। फिर जब उसका दर्द थोड़ा कम हुआ तो मैंने फिर से उसकी जांघो को पकड़कर धक्का मारा और मेरा पूरा LUND अन्दर घुसा दिया, वो एकदम से चिल्ला उठी। फिर मैंने उसके होठों पर किस करना शुरू कर दिया।

फिर उसके थोड़ा नॉर्मल होने पर में उसकी GAND के छेद में अपना LUND अंदर बाहर करने लगा। अब उसको भी मज़ा आने लगा था और में साथ में उसकी CHUT में भी उंगली भी कर रहा था, जिससे उसको और मज़ा आ रहा था। अब वो सिसकियां लेने लगी और बोली रवि थोड़ा और तेज़ करो, तो में और तेज़ करने लगा।

फिर थोड़ी देर के बाद उसकी CHUT से पानी निकलने लगा और वो अपनी GAND को टाईट करने लगी। फिर वो बोली कि रवि में गयी, में गयी बोलकर वो आह्ह्ह आह्ह्ह करने लगी, लेकिन में रुका नहीं। फिर 5 मिनट के बाद मेरा भी निकलने वाला था। में बोला कि BHABHI मेरा भी निकलने वाला है कहाँ निकालूं? तो वो बोली अंदर ही निकाल दे।

फिर मैंने थोड़ी देर धक्के मारने के बाद अपना सारा वीर्य उसकी GAND में ही छोड़ दिया, ये मेरा पहली बार था और जब में क़िसी की GAND में अपना पानी छोड़ रहा था। फिर में उसके ऊपर लेट गया और फिर थोड़ी लेटने के बाद हम दोनों ने अपने आपको साफ किया और वापस आकर दोबारा बेड पर लेट गये और बातें करने लगे। फिर थोड़ी देर के बाद में फिर से तैयार हो गया और फिर मैंने उसकी CHUT की जमकर CHUDAI की। उस दिन मैंने 2 बार उसके साथ CHUDAI की। उसके बाद मैंने चाय पी और फिर में अपने घर आ गया। अब मुझे जब भी मौका मिलता है तो में और BHABHI खूब मजे करते है।

Print This Page