BETE KA KHILAUNA MAA KA FULAUNA

by xfamilyfantasy | 22/11/2018 12:06 PM

Mein aap sab ke saamane ek nayi kahaani pesh karane ja raha hu. Ye toh aap sab ko thred ka taital padhake pata hi chal gaya hoga ki ye ek insest kahaani hai. Mein pharst taim hindi phont mein kahaani likh raha hu toh aap sab sahayog kariyega. Chalie haajir karate hai ye nayi kahaani BETE KA KHILAUNA MAA KA FULAUNA – बेटे का खिलौना माँ का फुलौना.
Ye kahaani ek chhote se parivaar ka hain!
Ye ek naami aur ijjatadaar parivaar ki kahaani hai, par kahate hai na ki jo jitana shariph dikhata hai par vaisa hota Nahin.!
To aap sabako bina bor kiye sharu karate hai ek nayi katha!
Chal nikal saale,jab jeb mein paise ho tab aaiyo.!
Paise bhar ki aukaat nahin hoti phir bhi chale aate hai muh utha ke!
Dapha ho ja maadharachod,jab paise ho tab aa jaiyo bistar garam karane!
Sab log ye manjar dekh ke hans rahe the,aur us randi ne itana bol muh pe daravaaja band kar diya!
Abhi itani bejjati kam nahin thi,saala kothe ke maalakin ne dhakke maarake bahaar nikalava diya..!
Ab aap sab soch rahe honge ki itani buri haalaat kisaki hai to mein aapako bata du vo khushanasib aadami mein hi hu..!
Itani bejjati karava ke mein aakhir us jagah se nikal aaya!
Baahar aake oto pakadi aur chal pada ghar ki or!
Ghar to pahunch hi jaenge chalie pahale aapako apane ghar vaalo ke baare mein bata du!
Thaakur prem sinh raathaur:- ye hai mere pita shri!
Bas naam mein hi prem hai, par asal mein ek nambar ke gussail aadami hai.!
Gaanv ke sabase badi hasti hai,aur ho bhi kyon na baap daada sab ek samay mein raaja the!
Bhale hi aaj ye raaja nahin hai, par rutaba bilkul raajaon vaala hain.!
Thaakur maadhuri sinh raathaur:- ye hai meri MAA.!
Naam mein hi madhurata hai, ye ha bala ki khubasurat.!
Pure gaanv mein inake sundarata ke charche ha.!
Thaakur aaditya sinh raathaur:- ye hu mai.!
Ghar ka ek maatr beta, sabaka pyaara aur dulaara.!
Gaanv ki jaan aur ghar ki shaan.!
Main aapako bataadu ki abhi ghar vaale nahin jaanate ki main kitana kamina hun.!
Thaakur priya sinh raathaur:- ye hai meri badi bahan.!
Ye gaanv mein rahakar apana khudaka skul chalati hai.!
Dikhane mein kisi apsara se kam nahin ha.!
Ye hi ghar mein ek maatr hai jisase mein khulakar baaten karata hu.!
To ye hai mera chhota sa parivaar.!
Ab aap sab soch rahe honge ki saala itane bade parivaar ka ladaka hoke bhi itani buri haalat kyon hain meri to mai
Aapako bataadu ye saala mere ek maatr dost ka kaam hain.!
Jo is baar bhi meri pars maarake gaayab ho gaya.!
Aksar vo is hi kothe pe jaake mere paise udaata tha par aaj vo yahaan aaya hi nahin tha.!
Saale ne mere gaadi bhi uda li thi!
Kisi tarah us khataare oto mein baith kar mai chhote sahar se gaanv aaya,vo to achchha hai saala vaha mujhe koi jaanata nahin
Tha.!
Khair kisi tarah ijjat bachaake ghar aaya.!
Abhi ghar mein daakhil hua hi tha ki apane pita ji ko dekh liya.!
Mujhe dekhate hi apane paas aane ka ishaara kiya.!
Pita ji:- kaha se aa rahe hai, hamane suna hain aaj kal aap ghar par bahot kam rukate hai, aur aap skul bhi nahin ja
Rahe hai kuchh dinon se.!
Mai:- ji pita ji.!
Pita ji:- thoda padhai likhai par bhi dhyaan de,aur pahale jaake apana huliya thik kijie.!
Main:- ji.!
Phir mai apane rum mein aaya aur naaha dhoke so gaya.!
Shaam ko nind khuli to utha aur kapade pahan ke nikal pada gaanv ghumane.!
Raaste mein jo bhi milata sabase namaste bandagi karate chala,aur saamane vaala bhi utani hi ijjat se chhote maalik kahake
Pukaarata.!
Gaanv se nikalate hue kheto mein aa gaya.!
Yahaan ki jyaadaatar khete hamaari hi thi,mai apane aam ke baagichon mein aa gaya.!
Kuchh dur aaya to mujhe ek bahot hi maadak aavaaj sunai di.!
Aavaaj ka pichha karate mein jangal ke aur andar aa gaya.!
Tabhi mujhe sarala tai dikhi,vo apni aankhe band karake ek ped ke niche baith ke aise maadak aavaaje nikaal rahi thi.!
Pahale to mujhi kuchh samajh nahin aaya par jab paas gaya aur dekha to pata chala ki vo apni chut masal rahi thi.!
Mujhe ye drshy dekhane mein kaaphi maja aa raha tha,isalie mein sarala tai ke bilakul paas jaake khada ho gaya.!
Kuchh hi der baad unaka apni chut ko masalane ki gati badh gayi,aur unaki chikhane ki aavaaje bhi badh gayi.!
Aahhh.uuhhhh..!Aaaaahhhh.!
Aaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh.!
Aur ek tej aavaaj nikalate hue unhonne apana chut masalana band kiya.!
Unake chehare par khushi jhalak rahi thi,par jaise hi unhonne apni aankhe kholi unaka munh khula ka khula rah gaya,aur
To aur unaki aankhe badi ho gayi.!
Sarala tai:- bababab..Bade mamaalik aap.!
Aur isi ke saath mere chehare par ek kamini muskaan aa gayi.!

BETE KA KHILAUNA MAA KA FULAUNA – बेटे का खिलौना माँ का फुलौना

Mai sarala tai ke baaho ko pakadate hue unhen khada kiya aur jabaradasti apane gale lagate hue bola.!
Mai:- are tai,aap itana ghabara kyon rahi hain, ham to aapake apane hain!
Mainne unaki pith sahalaate hue bola!
Vo mere baaho mein kasamasa rahi thi.!
Phir main apana haath niche le jaate hue unake bade-2 gaand pe rakh diya aur unhen dabaane laga!
Aur to aur unhen apane se bilkul kas ke sata liya,aur apane honth unake hotho pe rakh diya.!
Abhi mein kuchh aur karata ki isase pahale tai ne mujhe dhakka de diya.!
Mai:- kya tai,mujhe dhakka kyon diya,kya mujhase koi galati ho gayi.!
Mein phirase sarala tai ke or badhate hue bola.!
Sarala tai:- chhote maalik krpaya karake mere paas mat aaiye,main aapase vinati karati hu,mujhe jaane de.!
Par mainne unaki baat anasuni karate hue unhen phirase apane gale laga liya.!
Mai:-are tai kya ab sati-saavitri ban rahi hai, kuchh der pahale to bahut garmi thi tujhame.!
Sun aaj mai tujhe bina chode MAAunga nahin,dekh tu bhi shanti se MAA ja tujhe apana raani bana ke rakhunga.!
Aur vaise bhi kaunasa gaanv vaalo ko hamaare baare mein pata chalana hain.!
Sarala tai:- nahin mein apane pati ko dhoka nahin de sakati.!
Mai:- soch le,mere saath soi to maja bhi milega,teri chut ki khujali bhi mit jaayegi aur to aur paise bhi milenge..!
Ab dekh le har taraph se tera hi phaayada hai, aur jab tere paas paise honge to tu bhi kisi ke saamane haath nahin phailaegi.!
Sarala tai:- par kisi ko pata to nahin chalega na.!
Jab mainne tai ki ye baat suni,to mai samajh gaya saali pat gayi hain par thoda bhaav kha rahi hain.!
Phir mainne aur der na karate hue sarala tai ke saadi ke pallu ko niche gira diya aur usake blauj mein kaid bade-2 chuchiyo ko dabaane laga.!
Sarala tai to kisi jal bin machhali ke tarah tadapane lagi.!
Vo bahot hi maadak-2 aavaaje nikaal rahi thi.!
Sarala tai:- aaah.Aaaaaahahahah.!
Ohhhhhh.Hmmm.Uphphph.
Haan mere raaja aise hi dabao.!
Phir mainne unake blauj ko khol diya aur unaki nangi badi-2 gori chuchiyo ko daba-2 ke chusane laga.!
Phir mainne ek-2 karake unaki donon chuchiyo ko nichod daala.!
Phir mein unake hontho pe tut pada,aur kisi jaanavar ki tarah unake honto ko kaatane laga.!
Dhire-2 mein niche aaya aur unaki suraahidaar naabhi mein apana jibh ghusa diya.!
Tai ki to jon hi nikal gayi mere is harakat se.!
Tai:- haan,mere raaja,tu to bada khilaadi nikala.
Agar mujhe pata hota ki tu aisa hain to mai kabaka tere ho jaati.!
Ab aur na tadapa mere raaja,ab to chod de apni randi ko.!
Phir kya tha mainne tai ka bache kuche kapade bhi utaar die aur khud bhi nanga ho gaya.!
Phir main tai ki chut ki taraph apana haath ghumaaya.!
Tai ki ek maadak aaaahhh nikal gayi.!
Mainne dekha ki usake chut pe halake-2 baal the.!
Mein apni jibh se usaki chut kuredane laga.!
Tai:- oihhhhh.Hammmmm.Hasaasss.
Haan aise hi,ummmm.!
Mai apana pura jibh tai ke chut me ghuma raha tha.!
Phir mein utha aur apana kachchha utaar diya aur apane khade LUND ki taraph tai ko jhuka diya.!
Tai:- kitana bada hai re tera.!
Aaj to maja aa jaayega,aur itana bol usane mera LUND apane munh mein le liya.!
Kuchh der dhire chusane ke baad vo mera LUND apane muh se nikaalane lagi par mainne jabaradasti usaka sar pakad ke jor-2 se usake munh mein apana tagada LUND pelane laga.!
Kuchh der baad usane mujhe pura jor lagaake hataaya,aur jor-2 se khaansane lagi.!
Abhi vo kuchh bolati ki mai apana LUND usake chut pe rakhake turant ek joradaar jhataka maara ki mera pura LUND usaki chut mein chala gaya.!
Tai ki aankhe bilkul badi ho gayi aur to aur usaki aankhon se aansun aa gaya.!
Tai:- maar daala re,mar gayi mai.!
Dhire-2 nahin daal sakata tha kya.!
Par mein bina usaki baato ka dhyaan kiye lagaataar tej-2 dhakke maare ja raha tha.!
Pure vaataavaran mein bas tai ki chillaane aur mere dhaakko ki aavaaj aa raahi thi.!
Tai:- aaahhahhah…ohhhhhh.Ummmmmmmm.Hmmmm.
Haaa. Aaaaaaahhhhh.!
Aur ek tej aavaaj ke. Saath tai jhad gayi.!
Par main tab bhi dhakke maarata gaya aur karib 40 minat chodane ke baad jhad gaya.!
Mere jhadate hi tai ek aur baar jhad gayi.!
Main thak kar usake upar gir gaya.!
Kuchh der baad utha aur kapade pahan ke, mein aakhiri baar tai ko chuma.!
Mai:- kal tera inaam tere ghar paahunchava dunga.!
Itana bolakar mai ghar ki or badh gaya.!
Is baat se bekhabar ki ghar par ek bauchhaal mera intejaar kar raha hai..!

बेटे का खिलौना,माँ का फुलौना…!

सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार!

में आप सब के सामने एक नयी कहानी पेश करने जा रहा हु!
ये तोह आप सब को थ्रेड का टाइटल पढ़के पता ही चल गया होगा की ये एक इन्सेस्ट कहानी है!
में फर्स्ट टाइम हिंदी फॉन्ट में कहानी लिख रहा हु तोह आप सब सहयोग करियेगा!
चलिए हाजिर करते है ये नयी कहानी!
:: बेटे का खिलौना,माँ का फुलौना..! ::

ये कहानी एक छोटे से परिवार का हैं!
ये एक नामी और इज्जतदार परिवार की कहानी है, पर कहते है ना की जो जितना शरीफ दीखता है पर वैसा होता नहीं.!

तो आप सबको बिना बोर किये शरू करते है एक नयी कथा!

अपडेट:-1

चल निकल साले,जब जेब में पैसे हो तब आईयो.!
पैसे भर की औकात नहीं होती फिर भी चले आते है मुह उठा के!

दफा हो जा माधरचोद,जब पैसे हो तब आ जइयो बिस्तर गरम करने!

सब लोग ये मंजर देख के हँस रहे थे,और उस रंडी ने इतना बोल मुह पे दरवाजा बंद कर दिया!

अभी इतनी बेज्जती कम नहीं थी,साला कोठे के मालकिन ने धक्के मारके बहार निकलवा दिया..!

अब आप सब सोच रहे होंगे की इतनी बुरी हालात किसकी है तो में आपको बता दू वो खुशनसीब आदमी में ही हु..!

इतनी बेज्जती करवा के में आखिर उस जगह से निकल आया!

बाहर आके ऑटो पकड़ी और चल पड़ा घर की ओर!

घर तो पहुँच ही जाएंगे चलिए पहले आपको अपने घर वालो के बारे में बता दू!

ठाकुर प्रेम सिंह राठौर:- ये है मेरे पिता श्री!
बस नाम में ही प्रेम है, पर असल में एक नंबर के ग़ुस्सैल आदमी है.!
गाँव के सबसे बड़ी हस्ती है,और हो भी क्यों ना बाप दादा सब एक समय में राजा थे!
भले ही आज ये राजा नहीं है, पर रुतबा बिल्कुल राजाओं वाला हैं.!

ठाकुर माधुरी सिंह राठौर:- ये है मेरी माँ.!
नाम में ही मधुरता है, ये ह बला की खूबसूरत.!
पूरे गाँव में इनके सुंदरता के चर्चे ह.!

ठाकुर आदित्या सिंह राठौर:- ये हु मै.!
घर का एक मात्र बेटा, सबका प्यारा और दुलारा.!
गाँव की जान और घर की शान.!

मैं आपको बतादु की अभी घर वाले नहीं जानते की मैं कितना कमीना हूँ.!

ठाकुर प्रिया सिंह राठौर:- ये है मेरी बड़ी बहन.!
ये गाँव में रहकर अपना खुदका स्कूल चलती है.!
दिखने में किसी अप्सरा से कम नहीं ह.!
ये ही घर में एक मात्र है जिससे में खुलकर बातें करता हु.!

तो ये है मेरा छोटा सा परिवार.!

अब आप सब सोच रहे होंगे की साला इतने बड़े परिवार का लड़का होके भी इतनी बुरी हालत क्यों हैं मेरी तो मै आपको बतादु ये साला मेरे एक मात्र दोस्त का काम हैं.!

जो इस बार भी मेरी पर्स मारके गायब हो गया.!
अक्सर वो इस ही कोठे पे जाके मेरे पैसे उडाता था पर आज वो यहाँ आया ही नहीं था.!

साले ने मेरे गाडी भी उड़ा ली थी!
किसी तरह उस खटारे ऑटो में बैठ कर मै छोटे सहर से गाँव आया,वो तो अच्छा है साला वहा मुझे कोई जानता नहीं था.!

खैर किसी तरह इज्जत बचाके घर आया.!
अभी घर में दाखिल हुआ ही था की अपने पिता जी को देख लिया.!

मुझे देखते ही अपने पास आने का इशारा किया.!

पिता जी:- कहा से आ रहे है, हमने सुना हैं आज कल आप घर पर बहोत कम रुकते है, और आप स्कूल भी नहीं जा रहे है कुछ दिनों से.!

मै:- जी पिता जी.!

पिता जी:- थोडा पढाई लिखाई पर भी ध्यान दे,और पहले जाके अपना हुलिया ठीक कीजिए.!

मैं:- जी.!

फिर मै अपने रूम में आया और नाहा धोके सो गया.!

शाम को नींद खुली तो उठा और कपडे पहन के निकल पड़ा गाँव घूमने.!

रास्ते में जो भी मिलता सबसे नमस्ते बंदगी करते चला,और सामने वाला भी उतनी ही इज्जत से छोटे मालिक कहके पुकारता.!

गाँव से निकलते हुए खेतो में आ गया.!
यहाँ की ज्यादातर खेते हमारी ही थी,मै अपने आम के बागीचों में आ गया.!

कुछ दूर आया तो मुझे एक बहोत ही मादक आवाज सुनाई दी.!

आवाज का पीछा करते में जंगल के और अंदर आ गया.!

तभी मुझे सरला ताई दिखी,वो अपनी आँखे बंद करके एक पेड के निचे बैठ के ऐसे मादक आवाजे निकाल रही थी.!

पहले तो मुझेे कुछ समझ नहीं आया पर जब पास गया और देखा तो पता चला की वो अपनी चूत मसल रही थी.!

मुझे ये दृश्य देखने में काफी मजा आ रहा था,इसलिए में सरला ताई के बिलकुल पास जाके खड़ा हो गया.!

कुछ ही देर बाद उनका अपनी चूत को मसलने की गति बढ़ गयी,और उनकी चीखने की आवाजे भी बढ़ गयी.!

आह्ह्ह।ओओओओःह्ह्ह..!आआआह्ह्ह्ह.!
आआआआःह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्.!

और एक तेज आवाज निकलते हुए उन्होंने अपना चूत मसलना बंद किया.!

उनके चेहरे पर ख़ुशी झलक रही थी,पर जैसे ही उन्होंने अपनी आँखे खोली उनका मुँह खुला का खुला रह गया,और तो और उनकी आँखे बड़ी हो गयी.!

सरला ताई:- बबबब..बड़े ममालिक आप.!

और इसी के साथ मेरे चेहरे पर एक कमीनी मुस्कान आ गयी.!

अब आगे:-

मै सरला ताई के बाहो को पकड़ते हुए उन्हें खड़ा कीया और जबरदस्ती अपने गले लगते हुए बोला.!

मै:- अरे ताई,आप इतना घबरा क्यों रही हैं, हम तो आपके अपने हैं!
मैंने उनकी पीठ सहलाते हुए बोला!

वो मेरे बाहो में कसमसा रही थी.!

फिर मैं अपना हाथ निचे ले जाते हुए उनके बड़े-2 गांड पे रख दिया और उन्हें दबाने लगा!

और तो और उन्हें अपने से बिल्कुल कस के सटा लीया,और अपने होंठ उनके होठो पे रख दिया.!

अभी में कुछ और करता की इससे पहले ताई ने मुझे धक्का दे दिया.!

मै:- क्या ताई,मुझे धक्का क्यों दीया,क्या मुझसे कोई गलती हो गयी.!
में फिरसे सरला ताई के ओर बढ़ते हुए बोला.!

सरला ताई:- छोटे मालिक कृपया करके मेरे पास मत आइये,मैं आपसे विनती करती हु,मुझे जाने दे.!

पर मैंने उनकी बात अनसुनी करते हुए उन्हें फिरसे अपने गले लगा लिया.!

मै:-अरे ताई क्या अब सती-सावित्री बन रही है, कुछ देर पहले तो बहुत गर्मी थी तुझमे.!

सुन आज मै तुझे बिना चोदे मानूँगा नहीं,देख तू भी शन्ति से मान जा तुझे अपना रानी बना के रखूँगा.!

और वैसे भी कौनसा गाँव वालो को हमारे बारे में पता चलना हैं.!

सरला ताई:- नहीं में अपने पति को धोका नहीं दे सकती.!

मै:- सोच ले,मेरे साथ सोई तो मजा भी मिलेगा,तेरी चूत की खुजली भी मीट जायेगी और तो और पैसे भी मिलेंगे।.!

अब देख ले हर तरफ से तेरा ही फायदा है, और जब तेरे पास पैसे होंगे तो तू भी किसी के सामने हाथ नहीं फैलाएगी.!

सरला ताई:- पर किसी को पता तो नहीं चलेगा ना.!

जब मैंने ताई की ये बात सुनी,तो मै समझ गया साली पट गयी हैं पर थोडा भाव खा रही हैं.!

फिर मैंने और देर ना करते हुए सरला ताई के साडी के पल्लू को निचे गिरा दिया और उसके ब्लाउज में कैद बड़े-2 चुचियो को दबाने लगा.!

सरला ताई तो किसी जल बिन मछली के तरह तड़पने लगी.!
वो बहोत ही मादक-2 आवाजे निकाल रही थी.!

सरला ताई:- अअअअह.आआआआहहहह.!
ओह्ह्ह्ह्ह्ह.ह्म्म्म.उफ्फ्फ.
हां मेरे राजा ऐसे ही दबाओ.!

फिर मैंने उनके ब्लाउज को खोल दिया और उनकी नंगी बड़ी-2 गोरी चुचियो को दबा-2 के चूसने लगा.!

फिर मैंने एक-2 करके उनकी दोनों चुचियो को निचोड़ डाला.!

फिर में उनके होंठो पे टूट पड़ा,और किसी जानवर की तरह उनके होंटो को काटने लगा.!

धीरे-2 में निचे आया और उनकी सुराहीदार नाभि में अपना जीभ घुसा दिया.!

ताई की तो जॉन ही निकल गयी मेरे इस हरकत से.!

ताई:- हां,मेरे राजा,तू तो बड़ा खिलाडी निकला.
अगर मुझे पता होता की तू ऐसा हैं तो मै कबका तेरे हो जाती.!

अब और ना तड़पा मेरे राजा,अब तो चोद दे अपनी रंडी को.!

फिर क्या था मैंने ताई क बचे कूचे कपडे भी उतार दिए और खुद भी नंगा हो गया.!

फिर मैं टाई की चूत की तरफ अपना हाथ घुमाया.!

ताई की एक मादक आआह्ह्ह निकल गयी.!

मैंने देखा की उसके चूत पे हलके-2 बाल थे.!
में अपनी जीभ से उसकी चूत कुरेदने लगा.!

ताई:- ओइह्ह्ह्ह्ह्.हम्म्म्म्म.हसास्स्स.
हां ऐसे ही,उम्म्म्म.!

मै अपना पूरा जीभ ताई के चूत मे घुमा रहा था.!
फिर में उथा और अपना कच्छा उतार दिया और अपने खड़े लंड की तरफ ताई को झुका दिया.!

ताई:- कितना बड़ा है रे तेरा.!
आज तो मजा आ जायेगा,और इतना बोल उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया.!

कुछ देर धीरे चूसने के बाद वो मेरा लंड अपने मुह से निकालने लगी पर मैंने जबरदस्ती उसका सर पकड़ के जोर-2 से उसके मुँह में अपना तगड़ा लंड पेलने लगा.!

कुछ देर बाद उसने मुझे पूरा जोर लगाके हटाया,और जोर-2 से खाँसने लगी.!

अभी वो कुछ बोलती की मै अपना लंड उसके चूत पे रखके तुरंत एक जोरदार झटका मारा की मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया.!

ताई की आँखे बिल्कुल बड़ी हो गयी और तो और उसकी आँखों से आँसूं आ गया.!

ताई:- मार डाला रे,मर गयी मै.!
धीरे-2 नहीं डाल सकता था क्या.!

पर में बिना उसकी बातो का ध्यान किये लगातार तेज-2 धक्के मारे जा रहा था.!

पूरे वातावरण में बस ताई की चिल्लाने और मेरे धाक्को की आवाज आ राही थी.!

ताई:- आअह्हह्हह…ओह्ह्ह्ह्ह्ह.उम्म्म्म्म्म्म्म.ह्म्म्म्म.
हाआआ. आआआआआःह्ह्ह्ह्.!

और एक तेज आवाज के। साथ ताई झड़ गयी.!

पर मैं तब भी धक्के मारता गया और करीब 40 मिनट चोदने के बाद झड़ गया.!

मेरे झड़ते ही ताई एक और बार झड़ गयी.!

मैं थक कर उसके ऊपर गिर गया.!

कुछ देर बाद उठा और कपडे पहन के, में आखिरी बार ताई को चूमा.!

मै:- कल तेरा इनाम तेरे घर पाहूंचवा दूंगा.!

इतना बोलकर मै घर की ओर बढ़ गया.!
इस बात से बेखबर की घर पर एक बौछाल मेरा इन्तेजार कर रहा है..!

 

ALSO READ:-

Source URL: http://www.familysexfantasy.com/mom/bete-ka-khilauna-maa-ka-fulauna/