Meri Chalu Mammi Aur Meri Sexy Behan

मेरी चालू मम्मी, मेरी सेक्सी बहन

मेरा नाम सोनू है, उम्र 21 साल, मेरी छोटी बहन शिवानी उम्र 18 साल, मेरी मम्मी प्रभावती उम्र 39 साल और मेरा बाप उम्र 45 के करीब होगा।
मेरी माँ एकदम जवान और बहन अभी अभी जवान हुई थी, दोनों माँ-बेटी का शरीर एकदम कैसा हुआ है।
शुरू से ही मेरे घर में बहुत से आदमियों का आना-जाना रहा है, हम पूछते तो पापा और मम्मी कह देते कि हमारे पहचान के हैं, मेहमान हैं।
जब हम बड़े हुए तब मामला कुछ समझ आने लगा वो भी अभी एक महीने पहले जब मेरी बहन शिवानी को मम्मी-पापा के कमरे से कंडोम मिले। शुरू में मुझे लगा कि दोनों पति-पत्नी की आपसी चुदाई के लिए कंडोम इस्तेमाल करते होंगे।
लेकिन करीब 20 दिन पहले रात को करीब एक बजे का वक्त था, मैं और शिवानी एक ही कमरे में सोते हैं तो हमें कुछ आवाजें सुनाई दी जोर जोर से चिल्लाने की, हम हड़बड़ा के उठ गए और हॉल की तरफ भागे तो पता चला कि आवाज़ मम्मी के कमरे से आ रही थी।
मैं समझ गया कि मेरा बाप मम्मी को चोद रहा है, मैंने शिवानी को कमरे में जाने को कहा, वो नहीं गयी, उल्टा बोली- मुझे डर लग रहा है!
बहन जा नहीं रही थी और मैं अंदर का सीन देखना चाह रहा था।
फिर मैंने सोचा कि रहने दो बहन को… फ़िलहाल मम्मी की चुदाई देखी जाए।
दरवाज़ा अंदर से बंद नहीं था मैंने हल्के से छुआ तो वो थोड़ा खुल गया जिससे मैं आराम से अंदर देख पा रहा था।
अंदर का नज़ारा देख के तो मेरे होश उड़ गये, मैंने देखा कि मम्मी को एक काले सांड जैसे आदमी ने अपनी गोद में उठा रखा है और उसी की चुदाई से मम्मी चीख रही है और मेरे पापा वहीं एक कुर्सी पे बैठे थे और उनकी जांघों पे एक मस्त जवान लड़की बैठ कर उन्हें दारु पिला रही थी और दोनों एक दूसरे को चूमते हुए मम्मी का चीखना और चुदाई देख कर खूब हंस रहे थे।

Meri Chalu Mammi Aur Meri Sexy Behan

तभी उस लड़की ने पापा को कुछ कहा उनके कान में… वो मैं सुन नहीं पाया, बस उसके कान में कहते ही पापा उठ खड़े हुए और सीधा जाकर मम्मी की गांड में अपना लौड़ा पेल दिया, मम्मी बहुत जोर से चीख पड़ी क्यूंकि उनकी चुत में पहले से ही उस काले आदमी का लंड था ऊपर से गांड में अलग पेल दिया पापा ने!
करीब 20 मिनट तक उनकी चुदाई चली और फिर सबने अंदर ही अपना माल छोड़ दिया और मम्मी को नीचे बिस्तर पे लिटा दिया।
फिर उस काले सांड ने कुछ पैसे दिए पापा को और वो चला गया दूसरे दरवाज़े से और वो लड़की वहीं रुक गयी।
शिवानी वहीं सोफे पे सोफे पे बैठी थी, मैं पीछे मुड़ा तो उसने हंसकर पूछा- हो गया भैया?
मैंने कहा- हाँ… चलो सोया जाए!
और हम अपने कमरे में चले आये।
शिवानी ने कहा- भैया, मुझे अकेले डर लग रहा है, मैं तुम्हारे ही साथ सो जाऊँगी.
मैंने कहा- ठीक है।
थोड़ी देर में शिवानी मेरे पैर में अपने पैर रगड़ने लगी और मैं मम्मी की चुदाई देखकर होश खो चुका था, अभी तक मेरा लौड़ा खड़ा था।
शिवानी धीरे धीरे मुझसे चिपक गयी पूरी तरह, मेरा लौड़ा उसके पेट पे सट रहा था, मैंने अपने पैर उसकी पैर पे चढ़ा लिए.
तभी शिवानी ने पूछा- भैया, अंदर क्या हो रहा था पापा-मम्मी के कमरे में?
मैं वो सीन देखकर जोश से भरा हुआ था, मैंने कहा- बाबू, वो शादी के बाद वाला काम हो रहा था, तू अभी नासमझ है, नहीं समझेगी।
तभी शिवानी ने कहा- भैया, मैं 18 की हो चुकी हूँ और सब समझती हूँ, वो चीख सेक्स की थी।
मैं जोश में भर गया और लाज शर्म हटाकर बहन को कहा- हाँ शिवानी, हमारी मम्मी को एक काला सांड जैसा आदमी चोद रहा था और पापा भी साथ में।
इतना सुनते ही शिवानी ने मेरा लौड़ा पकड़ लिया और हिलाने लगी, मैंने भी उसकी चूत को छुआ तो वो सिसकार उठी.
मैंने कहा- बाबू आवाज़ मत कर जोर से… मम्मी-पापा आ जायेंगे।
इस पर शिवानी ने कहा- भैया हटाओ ये लाज शर्म… अब जब उन लोगों को शर्म ही नहीं है, ऊपर से बाहर के लोगों से भी मम्मी को चुदवा रहे हैं, तो तुम तो अपने हो।
इतना सुनते ही मेरा लौड़ा और मेरा जोश सातवें आस्मां पे पहुंच गया, मैंने कहा- बाबू, आज इन दोनों पति-पत्नी को भी दिखा देते है कि हम भाई-बहन में भी जोश कम नहीं है।
शिवानी ने कहा- सही बोले भैया तुम!
शिवानी- भैया, मुझे तो लगता है पापा ने मम्मी को रंडी बना दिया है, वो बाहर के लोगों से मम्मी को चुदवाते हैं और पैसे भी कमाते हैं. और तो और खुद भी जब दिल करता है लड़की लेकर आते हैं चोदने के लिए। साली हमारी मम्मी भी लंड की प्यासी है साली और ऊपर से पापा भी अलग अलग चुत के दीवाने।
इतना सुनते ही मैंने शिवानी की स्कर्ट और टॉप उतर दी और खुद पूरा नंगा हो गया।
शिवानी- भैया, मैंने बहुत सी ब्लू फिल्म देखी हैं, उसमें लंड को चूसते हैं मैं भी आपका चूसूंगी.
मैंने कहा- चूस ले बाबू, तेरे ही भैया का है, आराम से चूस और 69 पोजीशन में आ जा पैंटी उतार कर ताकि मैं भी तेरी चुत का रस पी सकूँ!
मैं लेटा था और शिवानी मेरे ऊपर 69 पोजीशन में लेट के मेरा लंड चूसने लगी और मैं उसकी चूत अपनी जीभ से कुत्ते जैसा चाट रहा था और जीभ अंदर की तरफ घुसा भी रहा था। इससे वो और सिसकारी मार मार के मेरा लंड चूसने लगी और मैं जोश से भर गया।
मैं बोला- शिवानी बाबू, अब हमारे बीच कोई लाज शर्म नहीं बची तो एक बात बताऊँ तुझे?
शिवानी बोली- भैया, जो बोलना है बोलो, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ेगा. तुम चाहो तो मुझे गाली भी दो, उल्टा मुझे और अच्छा लगेगा अपने लिए गाली सुनने में!
मैंने कहा- बाबू, मैं हमारी मम्मी को भी ठोकना चाहता हूँ. आज उसकी चुदाई देखी, साली का बदन एकदम कैसा हुआ है, बड़े बड़े चूचे और बड़ी गांड… उसको तो मार मार के चोदने में मज़ा आएगा।
शिवानी- अरे भाई, रंडी ही तो है वो साली… पापा को पैसे दो और बोलो चोदना है, और तुम्हें और लड़कियाँ चाहिए तो तुम रंडी बुला लो या फिर मेरी बहुत सी दोस्त हैं जो चुदने को बेताब हैं, मैं सबको तुमसे चुदवा दूंगी।
मैं- अरे मेरी प्यारी बहन, कितना ख्याल रखती है तू मेरा, एक काम करें, हॉल में चल के सेक्स करते हैं मम्मी-पापा के सामने।
शिवानी- हाँ भैया, चलो उनसे क्या शर्माना!
मैंने शिवानी को गोद में उठाया और हॉल में लेकर आ गया, यहाँ से मम्मी पापा का दरवाज़ा सामने ही था एकदम साफ़ दिख रहा था पापा वो रंडी और मम्मी के बीच में लेटे हुए थे।
मैंने कहा- शिवानी बाबू, तेरी सील अभी टूटी नहीं है, तू लेट… आज मैं तोड़ के तुझे कली से फूल बनाता हूँ।
शिवानी झट से लेट गयी पैर फैला कर बोली- आओ भैया, यहाँ घर में सब एक दूसरे को चोद रहे हैं, हम क्यों पीछे रहें! आकर मेरी चुत की सील तोड़कर मेरी प्यास बुझा दो।
मैंने वेसलीन लगाई अपनी बहन की चुत पर और धीरे धीरे अपना लौड़ा पेलने लगा उसकी चुत में… मेरी बहन की चूत से हल्का हल्का खून आने लगा और शिवानी आँखें बंद करके सिसकारी मार रही थी।
आधा लौड़ा जैसे ही अंदर गया शिवानी चिल्ला उठी- भैया, बस करो… बहुत दर्द हो रहा है।
वो इतना जोर से चिल्लाई कि पापा मम्मी और वो लड़की, वो तीनों बाहर आ गए और हमें इस हाल में देख के उनके होश ही उड़ गए. बस पापा और वो रंडी लड़की मुस्कुराने लगे।
तभी मम्मी सिर्फ टॉवल लपेट के खड़ी थी, मेरे एकदम पास वो बोली- ये क्या कर रहे हो तुम भाई बहन?
इस पर शिवानी ने तपाक से कहा- साली रण्डी… खुद तो दो-दो मर्दो से एक साथ चुदवाती है और यहाँ हमसे पूछ रही है कि क्या हो रहा है? मैं भी लड़की हूँ और अपने भाई से रोज़ चुदूँगी. तुझे क्या जलन हो रही है मेरे भाई का लम्बा लौड़ा देखकर?
इस पर मैंने मम्मी का टॉवल पकड़ा और खींच दिया और वो पूरी नंगी हो गयी। पापा ने झट से आकर उसे पकड़ लिया और उसकी चुत को रगड़ के बोले- अबे साली छिनाल वो चुद रही है तुझे क्यों दिक्कत है? तू भी मज़े ले ले! चल अब अपनी बेटी की चुत में अपने बेटे का लौड़ा घुसवा उनकी चुदाई करवा बढ़िया से।
चुत रगड़े जाने से मम्मी सिसकारी भरने लगी और हंसती हुई बोली- ले ले बेटा… तू भी मज़े ले ले।
और फिर मेरा लौड़ा पकड़ के मम्मी ने शिवानी की चुत पे रखा और बोली- घुसा।
पापा ने उस लड़की को कहा- तुम चली जाओ अब!
और वो चली गयी।
पापा बियर ले आये और मम्मी को कहा- सोनू को पिला!
वो मुझे पिलाने लगी और पापा भी सोफे पे बैठकर पी रहे थे. इतने में मैंने पूरा लौड़ा पेल दिया शिवानी की चुत में, शिवानी चिल्ला पड़ी कस के और उसके पैर कांपने लगे. तभी मम्मी ने उसे सहलाया और पैर पकड़े और पापा ने कहा- बेटा धक्के मार के चोद अपनी बहन को कस कस के!
पापा नशे में एकदम टाइट थे, तभी उन्होंने कहा- शिवानी बेटी, मुझे भी थोड़ा सा मज़ा दे सकती हो?
इस पर तपाक से शिवानी ने कहा- पापा दे तो सकती हूँ लेकिन उसके लिए आपको अपनी बीवी यानि मम्मी को सोनू भैया से चुदवाना पड़ेगा।
पापा बोले- बेटा, पूरे शहर के लोग चोदते हैं इस रंडी को… तो मेरा और इसका अपना बेटा क्यों नहीं चोद सकता।
मम्मी ने अब बियर का कैन पकड़ा और पापा की जांघो पे जाके बैठ गयी और बोली- मेरी जान, मेरी हवस ख़तम ही नहीं होती है, आज मुझे मेरा ही बेटा चोदेगा यह सोचकर ही मेरी चुत गीली हो रही है।
तभी पापा ने बियर मम्मी की चुत पे गिराई और चाटने लगे. इतने से ही वो सिसकारी मारने लगी।
मेरा अब गिरने वाला था, मैंने कहा- पापा, मेरा गिरने वाला है!
उन्होंने कहा- शिवानी की चुत के ऊपर गिरा दे!
मैंने वही किया, अपनी बहन की चुत के ऊपर ही सारा माल छोड़ दिया।
तभी पापा ने मम्मी को इशारा किया, मम्मी आयी और अपनी जीभ से शिवानी की चुत को चाट के साफ़ करने लगी और सारा माल पीती गयी। जब चुत एकदम साफ़ गयी तो उसने पापा को इशारा किया और कहा- आइये पति देव… आकर अपनी बेटी की चुत को चखिए।
पापा आकर शिवानी के ऊपर लेट के अपना लौड़ा घुसाने लगे और मैंने सोफे पे बैठा था तो मम्मी आकर मेरा लौड़ा चूसने लगी और बोली- बेटा, दुबारा खड़ा करती हूँ तेरा तुरंत… फिर पेलना अपनी माँ की चुत।
अपनी बेटी की चुत में पापा ने लौड़ा घुसाना शुरू किया तो शिवानी बोली- पापा, आपका तो और ज्यादा मोटा है लौड़ा… आराम आराम से पेलना।
पापा- हाँ बेटी एकदम आराम से पेलुँगा तुझे मेरी रानी बेटी ले अब लौड़ा मेरा अपनी चुत में।
इतना कहकर पापा ने एक ही झटके में अपना लौड़ा शिवानी की चुत में पेल दिया वो कस कस के चिल्लाने लगी और गाली देने लगी पापा को- मादरचोद रंडी के दलाल… दर्द हो रहा है मुझे… आराम से बोला था।
पापा- साली रुक जा रंडी की बेटी, चोदने दे मुझे… एकदम जवान है साली… बहुत मज़ा दे रही है तू तो।
शिवानी- साले गांडू, मेरे भैया से भी तो चुदवा अपनी बीवी को! और मेरे भैया से बच्चा करवा मम्मी में! तभी रोज़ चोदने दूंगी… और रोज़ रंडी भी बुला कर देना मेरे भाई को, तभी चुदूँगी तुझसे।
पापा- अरे साली, तुझे शायद नहीं पता तुम दोनों भाई बहन ही मेरे बच्चे हो उसके अलावा तीन और बेटियाँ है इस साली की जो मैंने दूसरे मर्दो से चुदवा के करवाई हैं इसलिए सोनू आराम से पेल सकता है इसे जब दिल चाहे।
तब तक मैं भी जोश में आ गया और मेरा लौड़ा खड़ा हो गया था, मैंने झट से मम्मी को उठाया और चुम्बन करने लगा।
पापा- अरे बेटा, इसको थप्पड़ मार… फिर देख इसका जोश कितना भयंकर होता है, पूरा मज़ा देगी तुझे।
पापा का इतने में ही झड़ गया उन्होंने तुरंत लौड़ा बाहर निकला और शिवानी के पेट पे गिरा दिया।
अब मैं मम्मी को बाल पकड़ के मार रहा था गाल पे, तभी शिवानी आयी और उसकी गांड पे चप्पल से मारने लगी इससे मम्मी भयानक जोश में भर गयी।
शिवानी- भैया, इस साली को यहीं जमीन पे लिटा और लौड़ा घुसा के चोद!
मैंने वही किया, तुरंत उसे लिटाया और मम्मी की चुत में अपना लौड़ा पेल दिया और उसे चोदने लगा।
शिवानी से मैंने कहा- बहन, तू इसकी मुँह पे बैठ के अपनी चुत चटवा ले!
शिवानी तुरंत उसके बाल पकड़ के उसके मुँह पे बैठ गयी और बोली- चाट साली मम्मी, अपनी बेटी की चुत चाट!

पापा बेसुध होकर सोफे पे ही सो गए।

मैंने काफी देर तक अपनी मम्मी को चोदा, तब शिवानी ने कहा- भैया, अंदर ही माल गिराना अपना इस साली के। मम्मी मेरी हम दोनों की चुत के अंदर ही गिराना तू अपना माल… हम दोनों को साथ में गर्भ धारण करवा देना। पापा बुड्ढा हो गया है तुझमें जोश भी ज्यादा है।
मम्मी- हाँ बेटा, तुझमें जवानी का जोश है, तू ही हम दोनों माँ बेटी की हवस की आग को शांत कर सकता है। तू कहेगा तो तुझे और लड़कियाँ भी लाकर देंगे हम लोग!
तभी मेरा मम्मी की चुत में ही गिर गया और मम्मी का भी गरम पदार्थ मुझे महसूस हुआ।
बहन ने कहा- भैया, लौड़ा अंदर डाले ही सो जाना!
और मैंने मम्मी के ऊपर ही सो गया, शिवानी मेरे बगल में सो गयी।
और इस तरह हमारा नया रिश्ता बना।

Print This Page

Related posts