SAUTELI MAA AUR UNKI MAA KI CHUDAI

Main raamu 18 saal ka tandarust javaan hun, ham log uttar pradesh ke ek gaanv mein rahate hain. Jab main 10 saal ka tha tabhi meri MAA ka dehaant ho gaya aur pitaaji ne 22 saal ki ek garib ladaki se dusari shaadi kar li. Ham log kheti-baadi karake apana din gujaarate the. Mere jyaada padha likha na hone ki vajah se pitaaji ne ek chhoti si kiraane ki dukaan khol li. Pitaaji kheti par jaate the aur main ya meri sauteli MAA dukaan par baithate the. सौतेली माँ और उनकी माँ की चुदाई Jab main 19 saal ka hua to pitaaji ka achaanak dehaant ho gaya. Ab ghar mein keval main aur meri sauteli MAA rahate the. Meri sauteli MAA ko main MAA kahakar bulaata tha. Ghar ka ikalauta beta hone ke kaaran meri MAA mujhe bahut pyaar karati thi Sauteli Maa Aur Unki Maa Ki Chudai.

Meri MAA thodi moti aur saavali hain, aur unaki umr 31 saal ki hai. Usake chutad kaaphi mote hain, jab vo chalati hai to usake chutad hilate hain. Usake bubs bhi bade-bade hain. Mainne kai baar nahaate samay unake bubs dekhe hain.

Pitaaji ke dehaant ke baad ham MAA bete hi ghar mein rahate the aur akelaapan mahasus karate the. Dukaan mein rahane ke kaaran ham log kheti nahin kar paate the isalie khet ko hamane kisi aur ko jutai ke lie de diya tha. Main subah saat baje se dopahar saadhe baarah baje tak dukaan mein baithata tha aur tin baje tak ghar mein rahata tha. Phir dukaan kholakar saat baje tak dukaan band kar ghar chala jaata tha.
Jab mujhe dukaan ka maal kharidane shahar jaana padata to MAA dukaan par baithati thi.

Ek din MAA ne dopahar mein khaana khaate vaqt mujhase puchha- raamu bete! Agar tumhe aitaraaj na ho to, kya main apani MAA ko yahaan bula lun, kyonki vo bhi gaanv mein akeli rahati hai. Unake yahaan aane se hamaara akelaapan dur ho jaega.
Mainne kaha- koi baat nahin MAA! Aap naani ji ko yahaan bula lo!

Agale haphte naani ji hamaare ghar pahunch gain. Vo karib 45 saal ki thi aur unake pati ka dehaant 3 saal pahale hua tha. Naani bhi moti aur saanvali thi aur unaka badan kaaphi seksi tha.

Jaade ka samay tha, isalie subah dukaan der se khulati thi aur shaam ko jaldi hi band bhi kar deta tha.

Ghar par MAA aur naani donon sari aur blauj pahanati thin aur raat ko sote samay sari khol deti thi aur keval blauj aur petikot pahan kar soti thi.
Main sote samay keval andaraviyar aur lungi pahan kar sota tha.

Ek din subah meri aankh khuli to, dekha naani mere kamare mein thi aur meri lungi ki taraph aankhen phaad-phaad kar dekh rahi thi.
Mainne jhat se aankhe band kar li taaki vo samajhe ki main abhi tak so raha hun.
Mainne mahasus kiya ki mera LUND khada hokar andaraviyar se baahar nikala tha aur lungi thodi saraki hui thi isalie mera LUND jo 8 inch lamba aur kaaphi mota tha, naani use aakhen phaad-phaad kar dekh rahi thi.

Kuchh der isi tarah dekhane ke baad vo kamare se baahar chali gai. Tab mainne uth kar mera mota LUND andaraviyar ke andar kiya aur lungi thik karake mutane chala gaya.

Naha dhokar jab ham sab milakar naashta kar rahe the, naani baar-baar mere LUND ki taraph dekh rahi thi. Shaayad vo is taak mein thi ki use mere LUND ke darshan ho jaayen!

Jaade ke dinon mein ham dukaan der se kholate the isalie main baahar aakar khet par baithakar dhup ka aanand le raha tha.
Baahar ek chhota paartishan tha jisamen ham log peshaab vagairah karate the.

Thodi der baad mainne dekha ki naani aai aur peshaab karane chali gai. Vo paartishan mein jaakar apani sari aur petikot kamar tak unchi ki aur is tarah baithi ki naani ki kaali phaankon vaali, jhaanton se ghiri chut mujhe saaph dikhai de rahi thi.
Naani ka sar niche tha aur meri najar unaki chut par thi. Peshaab karane ke baad naani karib paanch minat usi tarah baithi rahi aur apane daahine haath se chut ko ragad rahi thi.

Ye sab dekh kar mera LUND khada ho gaya aur jab naani uthi to mainne najar ghuma li. Mere paas se gujarate hue naani ne puchha- aaj dukaan nahin kholani hai kya?
Mainne kaha- bas naani ji, das minat mein jaakar dukaan kholata hun!
Aur main dukaan kholane chala gaya.

Shaam ko dukaan se jab ghar aaya to naani phir se mere saamane peshaab karane chali gai aur subah ki tarah peshaab karake apani chut ragad rahi thi.

Thodi der baad main baahar ghumane nikal gaya. Jaate vaqt MAA ne kaha! Beta jaldi aa jaana, jaade ka samay hai na! Mainne kaha thik hai MAA, aur nikal gaya.

Raaste mein, mere dimaag mein keval naani ki chut hi chut ghum rahi thi. Main kabhi-kabhi ek pauva deshi sharaab piya karata tha. Haalaanki aadat nahin thi. Mahine do mahine mein ek aadh baar pi liya karata tha.
Aaj mere dimaag mein keval chut hi chut ghum rahi thi isalie mainne desi theke pe dedh pauva pi liya aur chupachaap ghar ki or chal pada. Mere pine ke baare mein meri MAA jaanati thi. Lekin kuchh bolati nahin thi kyonki main pi kar chup chaap so jaata tha.

Raat karib nau baje ham sabane saath mein khaana khaaya. Khaana khaane ke baad MAA ghar ke kaam mein lag gai aur main aur naani khet par baithakar baaten karane lage. Thodi hi der mein MAA bhi aa gai aur baaten karane lagi.
Naani ne kaha- chalo! Kamare mein chalate hain, vahin baaten karenge kyonki baahar thand lag rahi hai.

Isalie ham sab kamare mein aa gae. MAA ne apana aur naani ka bistar jamin par lagaaya aur ham sab niche baithakar baaten karane lage.
Baaton-baaton mein naani ne kaha- raamu! Aaj tu hamaare saath hi so ja!
MAA ne kaha- ye yahaan kahaan soyega. Aur vaise bhi mujhe mardon ke bich sone mein sharm aati hai aur nind bhi nahin aati hai.
Naani boli- beti kya hua? Ye bhi to tere bete jaisa hi hai. Haalaanki tum isaki sauteli MAA ho lekin isaka kitana dhyaan rakhati ho. Agar beta saath so raha hai to isamen sharm ki kya baat hai.

Khair naani ki baat MAA MAA gai. Main MAA aur naani ki bich mein so gaya. Meri daahini taraph MAA so rahi thi aur bain taraph naani.

Sharaab ke nashe ke kaaran pata nahin chala ki mujhe kab nind aa gai.
Karib 1 baje mujhe peshaab lagi. Mainne aankh kholi to bagal se aaah ummh… ahah… hay… yaah… ki dhimi aavaaj sunai di. Mainne mahasus kiya ki ye to MAA ki phusaphusaahat thi isalie mainne dhire se MAA ki or dekha.
MAA ko dekhakar meri aakhen khuli ki khuli rah gain.

MAA apane petikot ko kamar tak upar karake baen haath se chut ragad rahi thi jabaki daahine haath ki ungaliyaan chut ke andar baahar kar rahi thi.Isi tarah karib das minat baad vo petikot niche kar ke so gai, shaayad usaka paani gir gaya hoga.Thodi der baad main uth kar peshaab karane chala gaya aur peshaab karake vaapis aakar naani aur MAA ke bich so gaya. Ab meri najar baar baar MAA par thi aur nind nahin aa rahi thi. Isalie main naani ki taraph karavat lekar so gaya. Lekin phir bhi mujhe nind nahin aa rahi thi kyonki naani ki or sone ke kaaran ab mere dimaag mein naani ki chut naach rahi thi.Main kaaphi kashamakash mein tha aur isi tarah karib ek ghanta bit gaya. Achaanak meri najar naani ke chutad par padi mainne dekha ki unaka petikot ghutanon se thoda upar utha hua tha.Ab mere sharaabi dimaag mein shaitaan jaag utha, main utha aur tel ki shishi le aaya aur naani ke paas munh karake khub saara tel mere supaare par aur LUND ke jad tak lagaaya, phir dhire dhire se naani ka petikot chutad ke upar kar diya.

Naani ka munh dusari taraph tha isalie unaki chut ke thode darshan ho gae. Ab mainne himmat karake apane LUND ka supaara naani ki chut ke munh ke paas rakha.Mainne mahasus kiya ki naani ahista-ahista apani gaand ko mere LUND ke paas kar rahi hain.Main samajh gaya ki shaayad naani chudane ke mud mein hai isalie mainne bhi apani kamar ka dhakka unaki chut par daala jisase mera supaara naani ki chut mein ghus gaya aur unake munh se ek halki chikh nikali- haay.. Raamu! Aahista daal na, tera LUND kaaphi bada aur mota hai, mainne bhi saalon se chut chudavai nahin hai beta… dhire-dhire aur aahista-aahista karo.Kah kar naani sidhi let gai aur apana petikot kamar tak uncha kar diya. Ab main naani ke upar chadh kar dhire dhire apana LUND ghusa raha tha. Jaise jaise LUND andar jaata tha vo uhhah haff uff hhah hahaaa anann aaaai ki aavaaj nikaalane lagi.

Main jab apana pura LUND naani ki chut mein daal chuka tha to mainne naani ki aankhon mein aansu dekhe, mainne puchha- kya aap ro rahi hain?Unhonne kaha- nahin re! Ye to khushi ke aansu hain. Aaj kitane barason baad meri chut mein LUND ghusa hai.Phir main apana LUND andar-baahar karane laga aur jor jor se naani ki chut ko chod kar phaadane laga, phir naani bhi apane chutad utha-utha kar mera saath de rahi thi aur bich-bich mein kah rahi thi- aur jor se chodo! Mere raaja! Vaaki tumhaara LUND insaan ka nahin ghode ya gadhe ka hai.Main karib das minat tak unaki chut mein apana mota-tagada hathiyaar andar-baahar kar raha tha.Isi bich mainne mahasus kiya ki MAA hamaari is kriya ko soye-soye dekh rahi thi aur man hi man soch shaayad rahi thi ki jab meri MAA apane naati se chudava sakati hai to kyon na main bhi ganga mein dubaki laga lun. Kab tak main apane haathon ka istemaal karati rahungi? Aakhir ye mera saga beta thode hi hai?Aur uthakar kar usane apana petikot khol diya phir apani chut naani ke munh pe rakhakar ragadane lagi.Pahale to naani sakapaka gai, phir samajh gai ki usaki beti bhi pyaasi hai aur apane sautele bete ka LUND khaana chaahati hai.

Phir naani MAA ki chut mein jibh daalakar jibh se chodane lagi. Isi daramiyaan naani jhad chuki thi aur kahane lagi- bas raamu, ab saha nahin jaata hai.Mainne kaha- bas naani, 5 minat aur!5 minat baad mera saara viry naani ki chut mein ja gira.Ab naani thak kar so gai, MAA ne kaha- chalo palang par chalate hain, vahin tum mujhe chodana.Ham donon palang par aa gae, mera LUND abhi sikuda hua tha, isalie MAA ne LUND ko munh mein lekar chusana shuru kiya aur main bhi 69 ki avastha mein unaki chut chaatane laga.Ham donon yah kriya karib 10 minat tak karate rahe aur mera LUND taanakar vishaalakaay ho gaya.Ab mainne MAA ki gaand ke niche takiya lagaaya aur unaki donon taangon ko mere kandhe pe rakhakar LUND pelane laga.LUND ka supaara andar jaate hi boli- haay re daiya! Kitana mota hai re tera LUND… khub maja aaega.

Aur phir main MAA ko jor-jor se chodane laga. Vo bhi mera khub saath de rahi thi. Pure kamare mein phach phach ki aavaaj gunj rahi thi. Ham kaafi der tak kai tarikon mein chudai karate rahe.Aur baad mein mainne MAA ki gaand bhi maari, jisamen meri MAA ko kaaphi maja aaya.Ab roj main dopahar mein naani ko chodata tha kyonki umr hone ke kaaran kabhi-kabhi saath nahin de paati thi aur MAA ko madhy raatri tak chodata tha.Chunki MAA baanjh thi isalie unhen koi dar nahin tha aur ham log khub chudai karate the.

मैं रामू 18 साल का तंदरुस्त जवान हूँ, हम लोग उत्तर प्रदेश के एक गाँव में रहते हैं।
जब मैं 10 साल का था तभी मेरी माँ का देहान्त हो गया और पिताजी ने 22 साल की एक गरीब लड़की से दूसरी शादी कर ली। हम लोग खेती-बाड़ी करके अपना दिन गुजारते थे।

मेरे ज्यादा पढ़ा लिखा न होने की वजह से पिताजी ने एक छोटी सी किराने की दुकान खोल ली। पिताजी खेती पर जाते थे और मैं या मेरी सौतेली माँ दुकान पर बैठते थे। जब मैं 19 साल का हुआ तो पिताजी का अचानक देहान्त हो गया। अब घर में केवल मैं और मेरी सौतेली माँ रहते थे। मेरी सौतेली माँ को मैं माँ कहकर बुलाता था। घर का इकलौता बेटा होने के कारण मेरी माँ मुझे बहुत प्यार करती थी।

मेरी माँ थोड़ी मोटी और सावली हैं, और उनकी उम्र 31 साल की है। उसके चूतड़ काफी मोटे हैं, जब वो चलती है तो उसके चूतड़ हिलते हैं। उसके बूब्स भी बड़े-बड़े हैं। मैंने कई बार नहाते समय उनके बूब्स देखे हैं।

पिताजी के देहान्त के बाद हम माँ बेटे ही घर में रहते थे और अकेलापन महसूस करते थे। दुकान में रहने के कारण हम लोग खेती नहीं कर पाते थे इसलिए खेत को हमने किसी और को जुताई के लिए दे दिया था। मैं सुबह सात बजे से दोपहर साढ़े बारह बजे तक दुकान में बैठता था और तीन बजे तक घर में रहता था। फिर दुकान खोलकर सात बजे तक दुकान बंद कर घर चला जाता था।
जब मुझे दुकान का माल खरीदने शहर जाना पड़ता तो माँ दुकान पर बैठती थी।

एक दिन माँ ने दोपहर में खाना खाते वक़्त मुझसे पूछा- रामू बेटे! अगर तुम्हे ऐतराज न हो तो, क्या मैं अपनी माँ को यहाँ बुला लूँ, क्योंकि वो भी गाँव में अकेली रहती है। उनके यहाँ आने से हमारा अकेलापन दूर हो जाएगा।
मैंने कहा- कोई बात नहीं माँ! आप नानी जी को यहाँ बुला लो!

अगले हफ्ते नानी जी हमारे घर पहुँच गईं। वो करीब 45 साल की थी और उनके पति का देहान्त 3 साल पहले हुआ था। नानी भी मोटी और सांवली थी और उनका बदन काफी सेक्सी था।

जाड़े का समय था, इसलिए सुबह दुकान देर से खुलती थी और शाम को जल्दी ही बंद भी कर देता था।

घर पर माँ और नानी दोनों साड़ी और ब्लाउज पहनती थीं और रात को सोते समय साड़ी खोल देती थी और केवल ब्लाउज और पेटीकोट पहन कर सोती थी।
मैं सोते समय केवल अंडरवियर और लुंगी पहन कर सोता था।

एक दिन सुबह मेरी आँख खुली तो, देखा नानी मेरे कमरे में थी और मेरी लुंगी की तरफ आँखें फाड़-फाड़ कर देख रही थी।
मैंने झट से आँखे बंद कर ली ताकि वो समझे कि मैं अभी तक सो रहा हूँ।
मैंने महसूस किया कि मेरा लंड खड़ा होकर अंडरवियर से बाहर निकला था और लुंगी थोड़ी सरकी हुई थी इसलिए मेरा लंड जो 8 इंच लम्बा और काफी मोटा था, नानी उसे आखें फाड़-फाड़ कर देख रही थी।

कुछ देर इसी तरह देखने के बाद वो कमरे से बाहर चली गई। तब मैंने उठ कर मेरा मोटा लंड अंडरवियर के अन्दर किया और लुंगी ठीक करके मूतने चला गया।

नहा धोकर जब हम सब मिलकर नाश्ता कर रहे थे, नानी बार-बार मेरे लंड की तरफ देख रही थी। शायद वो इस ताक में थी कि उसे मेरे लंड के दर्शन हो जायें!

जाड़े के दिनों में हम दुकान देर से खोलते थे इसलिए मैं बाहर आकर खेत पर बैठकर धूप का आनंद ले रहा था।
बाहर एक छोटा पार्टीशन था जिसमें हम लोग पेशाब वगैरह करते थे।

थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि नानी आई और पेशाब करने चली गई। वो पार्टीशन में जाकर अपनी साड़ी और पेटीकोट कमर तक ऊंची की और इस तरह बैठी की नानी की काली फांकों वाली, झांटों से घिरी चूत मुझे साफ दिखाई दे रही थी।
नानी का सर नीचे था और मेरी नजर उनकी चूत पर थी। पेशाब करने के बाद नानी करीब पांच मिनट उसी तरह बैठी रही और अपने दाहिने हाथ से चूत को रगड़ रही थी।

ये सब देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और जब नानी उठी तो मैंने नजर घुमा ली। मेरे पास से गुजरते हुए नानी ने पूछा- आज दुकान नहीं खोलनी है क्या?
मैंने कहा- बस नानी जी, दस मिनट में जाकर दुकान खोलता हूँ!
और मैं दुकान खोलने चला गया।

शाम को दुकान से जब घर आया तो नानी फिर से मेरे सामने पेशाब करने चली गई और सुबह की तरह पेशाब करके अपनी चूत रगड़ रही थी।

थोड़ी देर बाद मैं बाहर घूमने निकल गया। जाते वक़्त माँ ने कहा! बेटा जल्दी आ जाना, जाड़े का समय है न! मैंने कहा ठीक है माँ, और निकल गया।

रास्ते में, मेरे दिमाग में केवल नानी की चूत ही चूत घूम रही थी। मैं कभी-कभी एक पौवा देशी शराब पिया करता था। हालाँकि आदत नहीं थी। महीने दो महीने में एक आध बार पी लिया करता था।
आज मेरे दिमाग में केवल चूत ही चूत घूम रही थी इसलिए मैंने देसी ठेके पे डेढ़ पौवा पी लिया और चुपचाप घर की ओर चल पड़ा। मेरे पीने के बारे में मेरी माँ जानती थी। लेकिन कुछ बोलती नहीं थी क्योंकि मैं पी कर चुप चाप सो जाता था।

रात करीब नौ बजे हम सबने साथ में खाना खाया। खाना खाने के बाद माँ घर के काम में लग गई और मैं और नानी खेत पर बैठकर बातें करने लगे। थोड़ी ही देर में माँ भी आ गई और बातें करने लगी।
नानी ने कहा- चलो! कमरे में चलते हैं, वहीं बातें करेंगे क्योंकि बाहर ठण्ड लग रही है।

इसलिए हम सब कमरे में आ गए। माँ ने अपना और नानी का बिस्तर जमीन पर लगाया और हम सब नीचे बैठकर बातें करने लगे।
बातों-बातों में नानी ने कहा- रामू! आज तू हमारे साथ ही सो जा!
माँ ने कहा- ये यहाँ कहाँ सोयेगा। और वैसे भी मुझे मर्दों के बीच सोने में शर्म आती है और नींद भी नहीं आती है।
नानी बोली- बेटी क्या हुआ? ये भी तो तेरे बेटे जैसा ही है। हालाँकि तुम इसकी सौतेली माँ हो लेकिन इसका कितना ध्यान रखती हो। अगर बेटा साथ सो रहा है तो इसमें शर्म की क्या बात है।

खैर नानी की बात माँ मान गई। मैं माँ और नानी की बीच में सो गया। मेरी दाहिनी तरफ माँ सो रही थी और बाईं तरफ नानी।

शराब के नशे के कारण पता नहीं चला कि मुझे कब नींद आ गई।
करीब 1 बजे मुझे पेशाब लगी। मैंने आँख खोली तो बगल से अआह उम्म्ह… अहह… हय… याह… की धीमी आवाज सुनाई दी। मैंने महसूस किया कि ये तो माँ की फुसफुसाहट थी इसलिए मैंने धीरे से माँ की ओर देखा।
माँ को देखकर मेरी आखें खुली की खुली रह गईं।
माँ अपने पेटीकोट को कमर तक ऊपर करके बाएं हाथ से चूत रगड़ रही थी जबकि दाहिने हाथ की उँगलियाँ चूत के अन्दर बाहर कर रही थी।
इसी तरह करीब दस मिनट बाद वो पेटीकोट नीचे कर के सो गई, शायद उसका पानी गिर गया होगा।

थोड़ी देर बाद मैं उठ कर पेशाब करने चला गया और पेशाब करके वापिस आकर नानी और माँ के बीच सो गया। अब मेरी नजर बार बार माँ पर थी और नींद नहीं आ रही थी। इसलिए मैं नानी की तरफ करवट लेकर सो गया। लेकिन फिर भी मुझे नींद नहीं आ रही थी क्योंकि नानी की ओर सोने के कारण अब मेरे दिमाग में नानी की चूत नाच रही थी।

मैं काफी कशमकश में था और इसी तरह करीब एक घंटा बीत गया। अचानक मेरी नजर नानी के चूतड़ पर पड़ी मैंने देखा कि उनका पेटीकोट घुटनों से थोड़ा ऊपर उठा हुआ था।
अब मेरे शराबी दिमाग में शैतान जाग उठा, मैं उठा और तेल की शीशी ले आया और नानी के पास मुँह करके ख़ूब सारा तेल मेरे सुपारे पर और लंड के जड़ तक लगाया, फिर धीरे धीरे से नानी का पेटीकोट चूतड़ के ऊपर कर दिया।

नानी का मुँह दूसरी तरफ था इसलिए उनकी चूत के थोड़े दर्शन हो गए। अब मैंने हिम्मत करके अपने लंड का सुपारा नानी की चूत के मुँह के पास रखा।
मैंने महसूस किया कि नानी अहिस्ता-अहिस्ता अपनी गांड को मेरे लंड के पास कर रही हैं।

मैं समझ गया कि शायद नानी चुदने के मूड में है इसलिए मैंने भी अपनी कमर का धक्का उनकी चूत पर डाला जिससे मेरा सुपारा नानी की चूत में घुस गया और उनके मुँह से एक हल्की चीख निकली- हाय.. रामू! आहिस्ता डाल न, तेरा लंड काफी बड़ा और मोटा है, मैंने भी सालों से चूत चुदवाई नहीं है बेटा… धीरे-धीरे और आहिस्ता-आहिस्ता करो।

कह कर नानी सीधी लेट गई और अपना पेटीकोट कमर तक ऊँचा कर दिया। अब मैं नानी के ऊपर चढ़ कर धीरे धीरे अपना लंड घुसा रहा था। जैसे जैसे लंड अन्दर जाता था वो उह्हह हफ़्फ़ उफ़्फ़ ह्हह हहाआआ अनन्न आआऐ की आवाज निकालने लगी।

मैं जब अपना पूरा लंड नानी की चूत में डाल चुका था तो मैंने नानी की आँखों में आंसू देखे, मैंने पूछा- क्या आप रो रही हैं?उन्होंने कहा- नहीं रे! ये तो ख़ुशी के आंसू हैं। आज कितने बरसों बाद मेरी चूत में लंड घुसा है।

फिर मैं अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा और जोर जोर से नानी की चूत को चोद कर फाड़ने लगा, फिर नानी भी अपने चूतड़ उठा-उठा कर मेरा साथ दे रही थी और बीच-बीच में कह रही थी- और जोर से चोदो! मेरे राजा! वाकई तुम्हारा लंड इंसान का नहीं घोड़े या गधे का है।
मैं करीब दस मिनट तक उनकी चूत में अपना मोटा-तगड़ा हथियार अन्दर-बाहर कर रहा था।
इसी बीच मैंने महसूस किया कि माँ हमारी इस क्रिया को सोये-सोये देख रही थी और मन ही मन सोच शायद रही थी कि जब मेरी माँ अपने नाती से चुदवा सकती है तो क्यों न मैं भी गंगा में डुबकी लगा लूँ। कब तक मैं अपने हाथों का इस्तेमाल करती रहूंगी? आखिर ये मेरा सगा बेटा थोड़े ही है?

और उठकर कर उसने अपना पेटीकोट खोल दिया फिर अपनी चूत नानी के मुँह पे रखकर रगड़ने लगी।

पहले तो नानी सकपका गई, फिर समझ गई कि उसकी बेटी भी प्यासी है और अपने सौतेले बेटे का लंड खाना चाहती है।
फिर नानी माँ की चूत में जीभ डालकर जीभ से चोदने लगी। इसी दरमियान नानी झड़ चुकी थी और कहने लगी- बस रामू, अब सहा नहीं जाता है।
मैंने कहा- बस नानी, 5 मिनट और!
5 मिनट बाद मेरा सारा वीर्य नानी की चूत में जा गिरा।

अब नानी थक कर सो गई, माँ ने कहा- चलो पलंग पर चलते हैं, वहीं तुम मुझे चोदना।

हम दोनों पलंग पर आ गए, मेरा लंड अभी सिकुड़ा हुआ था, इसलिए माँ ने लंड को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया और मैं भी 69 की अवस्था में उनकी चूत चाटने लगा।
हम दोनों यह क्रिया करीब 10 मिनट तक करते रहे और मेरा लंड तानकर विशालकाय हो गया।

अब मैंने माँ की गांड के नीचे तकिया लगाया और उनकी दोनों टांगों को मेरे कंधे पे रखकर लंड पेलने लगा।
लंड का सुपारा अन्दर जाते ही बोली- हाय रे दैया! कितना मोटा है रे तेरा लंड… खूब मजा आएगा।

और फिर मैं माँ को जोर-जोर से चोदने लगा। वो भी मेरा खूब साथ दे रही थी। पूरे कमरे में फच फच की आवाज गूँज रही थी। हम काफ़ी देर तक कई तरीकों में चुदाई करते रहे।
और बाद में मैंने माँ की गांड भी मारी, जिसमें मेरी माँ को काफी मजा आया।

अब रोज मैं दोपहर में नानी को चोदता था क्योंकि उम्र होने के कारण कभी-कभी साथ नहीं दे पाती थी और माँ को मध्य रात्रि तक चोदता था।
चूँकि माँ बाँझ थी इसलिए उन्हें कोई डर नहीं था और हम लोग खूब चुदाई करते थे।

Print This Page

Related posts